Khandwa News : खंडवा (नईदुनिया प्रतिनिधि)। पंधाना विकासखंड के ग्राम अर्दला में जल संसाधन विभाग द्वारा निर्मित सिंचाई तालाब की करीब सात मीटर चौड़ी पाल में छेद हो जाने से दो-तीन स्थानों पर पानी बह रहा है। लबालब भर चुके तालाब से पानी का लीकेज होने से ग्रामीण तालाब की पाल फूटने की आशंका से चिंतित हैं। वहीं सिंचाई विभाग की ओर से तालाब पूरी तरह सुरक्षित होने तथा पाल के ऊपरी हिस्से में चूहों द्वारा छेद (रेट होल ) करने से पानी बहने की बात कही जा रही है। तालाब में लीकेज की सूचना पर सोमवार को कार्यपालन यंत्री सहित अन्य अधिकारी मौके पर पहुंचे और छेदों को मुरम डाल कर बंद करने का प्रयास किया। देर शाम कलेक्टर ने भी मौके पर पहुंचकर जायजा लिया।

हाल ही में धार जिले में कारम बांध में रिसाव के बाद फूटने के खतरे से मचे हड़कंप के बाद प्रदेशभर में सभी बांध और तालाबों की जांच के निर्देश शासन ने दिए थे। इसके चलते जिले में सिंचाई विभाग द्वारा भी अपने छोटे-बडे सभी तालाब और बांध की जांच की गई थी। इसके बावजूद सोमवार को पंधाना विकासखंड में 12 वर्ष पहले खेतों में सिंचाई के लिए बनाए गए अर्दला तालाब में छेद से पानी के बहाव से विभाग की सजगता उजागर हो गई है। तीन मिलियन घनमीटर (एमसीएम) जल भराव क्षमता का अर्दला तालाब अपने पूर्ण जलभराव स्तर (टीआरएल) 309 मीटर तक लबालब भर चुका है।

लबालब भरा है तालाब

बताया जाता है कि तालाब लबालब होने पर अतिरिक्त पानी की निकासी के लिए बनाए गए गेट को मछली पालने वालों ने बंद कर दिया है। इससे तालाब का जलस्तर टीआरएल के ऊपर 309.10 मीटर के लगभग पहुंच गया। ऐसे में तालाब की पाल के ऊपरी हिस्सों में चूहों द्वारा बनाए गए छेदों से पानी बहने लगा। तालाब की करीब सात मीटर चौड़ी पाल में छेद होने से तालाब फूटने की अफवाह से क्षेत्र में हड़कंप मच गया। पाल में तीन से चार सेंटीमीटर डाया के छेद से लगातार पानी बह रहा है।

मौके पर पहुंचे अधिकारी, लीकेज रोकने की कोशिश

अर्दला तालाब में लीकेज की सूचना पर जल संसाधन विभाग के अधिकारी भी दलबल के साथ मौके पर पहुंचे। तालाब के डाउन स्ट्रीम में छेदों को मुरम डालकर पानी का बहाव रोकने के प्रयास किए जा रहे हैं। तालाब की पाल में हुए छेद मिट्टी का कटाव होने या पाल क्षतिग्रस्त होने की स्थिति में गांव या आबादी की ओर पानी घुसने का कोई खतरा नहीं है। छेद से पानी तालाब के डाउन स्ट्रीम में पानी खेतों में जा रहा है। किसानों का कहना है कि यदि पानी बंद नहीं हुआ तो फसल में सड़न और नुकसानी हो सकती है।

एसडीएम ने कहा- खतरे जैसी बात नहीं

पंधाना एसडीएम शानू देवडिया का कहना है कि तालाब में मछली पकड़ने के पट्टे भी दिए हुए हैं। जाल लगाने से ओवरफ्लो गेट से पानी की निकासी प्रभावित हो रही थी। इससे पानी का दबाव बढ़ने पर पाल की ओर से रेट होल से पानी बहने लगा था। ओवरफ्लो गेट खुलवा दिया है। इससे रिसाव में कमी आ गई है। खतरे जैसी कोई बात नहीं है।

कार्यपालन यंत्री ने कहा- तालाब पूरी तरह सुरक्षित

जल संसाधन विभाग के कार्यपालन यंत्री मेघा चौरे का कहना है कि अर्दला तालाब लबालब भर चुका है। इसके टीआरएल के ओवरफ्लो से पानी की निकासी नहीं हो पाने से अतिरिक्त पानी पाल में रेट होल से बह रहा है। इन्हें बंद किया जा रहा है। इससे तालाब को खतरे जैसी कोई बात नहीं है। वह पूरी तरह सूरक्षित है।

Posted By:

NaiDunia Local
NaiDunia Local
  • Font Size
  • Close