खंडवा। मुझे मुझे पुलिस ने पूछताछ के लिए बुलाया और थाने में बेल्ट से पीटा रात 10:30 बजे तक मुझे थाने में बैठाए रखा। जबकि मेरे भाई ने शाम 7:00 बजे ही आत्मसमर्पण कर दिया था। यह कहना है जिला अस्पताल में भर्ती मंजू का। मंजू ने बुधवार सुबह गोलियां खाकर जान देने की कोशिश की। उसे गंभीर हालत में जिला अस्पताल में भर्ती कराया गया। गुरुवार को हालत में सुधार आने पर उसने अपने साथ पुलिस द्वारा किए गए बर्ताव के बारे में बताया। मंजू ने कहा कि उसका भाई विनोद अपराधी प्रवृत्ति का है। मोबाइल चोरी के एक मामले में पुलिस उसकी तलाश में घर आई थी और मुझे पूछताछ के लिए थाने ले गई।

साथ ही पति और बेटे को भी पूछताछ के लिए बुला लिया। पति और बेटे को बाहर बैठा दिया और मुझे थाने के अंदर ले जाकर भाई का पता पूछते हुए मारपीट की। मेरे हाथों पर बेल्ट से प्रहार कर प्रताड़ित किया। पुलिस की मारपीट से व्यथित होकर घर पहुंचने पर मंजू ने एलर्जी से संबंधित और अन्य गोलियां अधिक मात्रा में खाकर जान देने की कोशिश की। बेटे विनय ने बताया कि आने के आने से आने के बाद से मां डिप्रेशन में है। News Updating…

Posted By: Prashant Pandey

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस