खंडवा(नईदुनिया प्रतिनिधि)। प्राथमिक स्कूल खुलने के साथ ही वहां पर अव्यवस्थाएं भी सामने आ रही है। इनकी जांच के लिए शिक्षा विभाग ने शहरी क्षेत्र में सात टीम बनाकर जांच के निर्देश दिए हैं। दो दिनों में टीमों ने 28 स्कूलों का निरीक्षण किया। इनमें से सात स्कूलों में अनियमितता, सफाई नहीं होने सहित कोरोना गाइड लाइन का पालन नहीं होने पर कार्रवाई के दायरे में लिया है। कारण बताओ नोटिस जारी कर तीन दिनों में जवाब मांगा गया है।

पहली से 12 वीं तक की कक्षाएं अब 50 फीसद उपस्थिति के साथ लगाई जा रही है। प्राइमरी व मिडिल स्कूलों में जांच के लिए डीपीसी कार्यालय से टीमों का गठन किया गया है। टीम के सदस्यों ने बुधवार व गुरुवार को अलग स्कूलों में जाकर निरीक्षण किया। इनमें आनलाइन पढ़ाई, वर्क बूक, नेशनल अचिवमेंट सर्वे के तहत जानकारी देना, साफ-सफाई, शिक्षकों की उपस्थिति सहित कोरोना संक्रमण से बचाव के लिए गाइड लाइन का पालन संबंधित जांच की गई। इसी के तहत अनियमितता मिलने पर यह कार्रवाई की गई।

इन स्कूलों को मिला कारण बताओ नोटिस

प्राथमिक शाला ठक्कर बप्पा भवानी माता रोड, कन्या शाला पड़ावा, रामनगर, माखनलाल चतुर्वेदी, वल्लभभाई पुरुषार्थी, माध्यमिक शाला घासपुरा व माध्यमिक शाला प्रायोगिक ईएल के प्रभारियों को कारण बताओ नोटिस जारी किया गया है।

ब्लाक स्तर पर भी होगी जांच

स्कूल खुलने के बाद शहरी सहित ग्रामीण क्षेत्रों में भी शिक्षकों के समय पर नहीं पहुंचने, कोरोना गाइड लाइन का पालन न होने, सफाई व्यवस्था व अन्य कार्य के संबंध में शिकायत मिली है। जिसके बाद शिक्षा विभाग ब्लाक स्तर पर जांच टीम गठित कर कार्रवाई कराएंगा। साथ ही समस्याओं को दूर करने के लिए भी काम किया जाएगा।

सात टीम बनाई गई है , दो दिन जांच में सात स्कूलों मे अनियमितता मिलने पर नोटिस दिए है समय-समय पर आगे भी जांच होगी। संबंधित स्कूलों को तीन दिनों में जवाब देना होगा। अगर कोई समस्या आ रही है तो उससे भी अवगत करा सकते हैं।

-पीएस सोलंकी, डीपीसी शिक्षा विभाग

Posted By: Nai Dunia News Network

NaiDunia Local
NaiDunia Local