- ट्रैफिक पुलिस को मिला तीन लाख रुपये का यंत्र

02के एचए-28

फोटो- यातायात थाने में सूबेदार धरम जामोद और आरक्षक शुभम साउंड लेवल मीटर का अवलोकन करते हुए।

खंडवा (नईदुनिया प्रतिनिधि)। शहर में ध्वनि प्रदूषण को रोकने के लिए पुलिस ने एक्शन प्लान तैयार कि या है। वाणिज्यिक, औद्योगिक, अवासीय और साइलेंस जोन चिन्हित कर इनके अंतगर्त आने वाले क्षेत्रों की जानकारी लेकर कलेक्टोरेट भेजी गई है। हालांकि चिन्हित क्षेत्रों को घोषित करना अभी बाकी है। कलेक्टर द्वारा ही इसकी घोषणा की जाएगी। कार्रवाई के लिए ट्रैफिक पुलिस को अब साउंड लेवल मीटर मिल गया है। करीब 3 लाख रुपये का यह मीटर पुलिस मुख्यालय से दिया गया है। वहीं दो पुलिसकर्मियों को ध्वनि प्रदूषण करने वाले वाहनों पर कार्रवाई के लिए भोपाल से ऑनलाइन ट्रेनिंग भी दी गई है।

ध्वनि प्रदूषण करने वालों पर कार्रवाई करने के लिए पुलिस का रास्ता खुल गया है। ट्रैफिक पुलिस के पास अब तक अत्याधुनिक संसाधनों से लेस साउंड लेवल मीटर नहीं था लेकि न पुलिस मुख्यालय ने इसकी पूर्ति भी कर ली है। ट्रैफिक थाने को करीब तीन लाख रुपये का साउंड लेवल मीटर दिया गया है। इसकी खासीयत यह है कि यह पूरी तरह से अत्याधुनिक है। चार्जेबल बैटरी से मीटर संचालित होता है। इसके साथ मौके पर ही वाहन, डीजे व लाउड स्पीकर से निकलने वाले साउंड के बारे में जानकारी मिल जाएगी। जांच का पूरा प्रिंट भी मौके पर ही निकल जाएगा। इसके लिए मीटर के साथ एक यंत्र भी दिया गया है। कार्रवाई को लेकर सूबेदार धरम जामोद और आरक्षक शुभम को ट्रेनिंग भी दी गई है। दोनों को वीडियो कॉन्फ्रेंस कर भोपाल से यंत्र के उपयोग को लेकर बताया गया है। रविवार को ट्रैफिक थाना परिसर में ही मशीन से डेमो कि या गया। वाहनों की आवाज को यंत्र से चेक कि या गया।

ध्वनि प्रदूषण चिन्हित क्षेत्रों की नहीं हुई घोषणा

ट्रैफिक पुलिस ने शहर में पांच ध्वनि प्रदूषण प्रतिबंधित क्षेत्र तय कि ए हैं। वाणिज्यिक क्षेत्र में बॉम्बे बाजार, औद्योगिक क्षेत्र स्थित रुधि ग्रोथ सेंटर और मूंदी पॉवर प्लांट, अवासीय क्षेत्र स्थित सिविल लाइन चिन्हित कि या गया है। इसके साथ पांचवें साइलेंस जोन में जिला न्यायालय, कलेक्टोरेट परिसर, पुलिस अधीक्षक कार्यालय, जिला अस्पताल और शहर के सभी अस्पताल क्षेत्र को लिया गया है। इन सभी को प्रतिबंधित क्षेत्र घोषित करने के लिए ध्वनि प्रदूषण नियंत्रण नोडल अधिकारी डीएसपी संतोष कोल ने कलेक्टर को पत्र लिखा था। इस पत्र को करीब तीन माह हो गए हैं लेकि न अब तक आदेश जारी नहीं हुए हैं।

- साउंड लेवल मीटर मुख्यालय से दिया गया है। शीघ्र ही मीटर का उपयोग करते हुए कार्रवाई की जाएगी। ध्वनी प्रदूषण रोकने के लिए क्षेत्र तय कर घोषणा के लिए कलेक्टर को भेजे गए हैं। अभी तक सुनवाई नहीं हो सकी है। -संतोष कोल, ध्वनि प्रदूषण नियंत्रण नोडल अधिकारी

Posted By: Nai Dunia News Network

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस