---लीड----

( जोड़ भी आएगा)

02के एचए-21

फोटो- इंदौर से बहन को लेकर ग्राम रुधि जा रहे कमलेश पाटीदार से पूछताछ करते हुए पुलिस। चित्र इंदौर नाका क्षेत्र का।

02के एचए-22

फोटो- इंदौर नाका क्षेत्र से शहर में प्रवेश करने वालों की स्क्रीनिंग करती हुई स्वास्थ्य विभाग की टीम। नईदुनिया

लॉकडाउन के बीच बहनों को बाइक से लेकर आए भाई

- इंदौर, महू, खरगोन सहित अन्य शहरों से आए भाई-बहनों पर पुलिस ने नहीं दिखाई सख्ती-

- कोरोना संक्रमण से बचाव को लेकर स्क्रीनिंग कराने के बाद छोड़ा

खंडवा (नईदुनिया प्रतिनिधि)। भाई और बहन के पवित्र रिश्ते पर लॉकडाउन और कोरोना संक्रमण का डर भी हावी नहीं हो पाया। जिले में रविवार को पूर्ण लॉकडाउन के दौरान भाई अपनी बहनों को बाइक पर बैठाकर सैकड़ों कि मी की यात्रा करते हुए घर लेकर आए। इस दौरान उन्हें पुलिस का सामना भी करना पड़ा। हालांकि रक्षाबंधन को लेकर रियायत बरतते हुए पुलिसकर्मियों ने ऐसे बाइक सवारों पर कि सी तरह की कार्रवाई नहीं की।

रविवार को शहर में जारी लॉकडाउन के बीच दूर-दूर से लोग अपनी बहनों को बाइक पर बैठाकर सड़कों से गुजरते नजर आए। कोई इंदौर से तो कोई महू और खरगोन से बहनों को लेकर आया। शहर में प्रवेश करते ही इन्हें पुलिसकर्मियों ने रोक लिया। इंदौर नाके पर ऐसे करीब 15 से 20 बाइक चालकों को रोका गया, जो अपनी बहन को रक्षाबंधन पर्व मनाने के लिए लेकर आ रहे थे। यहां पुलिस के साथ ही स्वास्थ्य विभाग की टीम भी सक्रिय रही। रोके गए भाई-बहनों और उनके साथ मौजूद बच्चों की स्क्रीनिंग करने के साथ ही नाम और मोबाइल नंबर रजिस्टर में दर्ज कि या गया। पुलिसकर्मियों ने जरूरी पूछताछ के बाद बाइक सवारों को रवाना कर दिया। इसी तरह इंदिरा चौक पर भी ऐसे ही कु छ बाइक सवारों को रोका गया जो रक्षाबंधन का पर्व मनाने के लिए बहन को लेकर गांव की ओर जा रहे थे। यहां पुलिसकर्मियों ने ऐसे लोगों को कोरोना संक्रमण से बचाव की सलाह भी दी।

परिवहन के साधन नहीं होने से बढ़ी परेशानी

कई परिवार ऐसे हैं जो रक्षाबंधन पर्व के लिए बहनों को लेने नहीं पहुंच सके । परिवहन के साधन बंद होने और कोरोना संक्रमण के चलते इस तरह की स्थिति बनी है। हालांकि कु छ भाइयों ने बहनों को लाने के लिए बाइक का सहारा लिया। रविवार को शहर पहुंचे कमलेश पाटीदार ने बताया कि वे इंदौर के खजराना क्षेत्र से अपनी बहन को लेकर आए हैं और ग्राम रुधि जा रहे हैं। पुलिस द्वारा जब पूछा गया कि लॉकडाउन में क्यों आए तो उन्होंने कहा कि इंदौर में लॉकडाउन नहीं लगा था। बड़वाह में भी बाजार खुला था। पूछताछ के बाद भाई-बहन को छोड़ दिया गया। इसी तरह खरगोन के दुर्गा सिंह ने बताया कि वह अपनी पत्नी को ग्राम गुड़ी में पीहर छोड़ने के लिए जा रहा है ताकि वह रक्षाबंधन पर्व मना सके । इसी तरह इंदिरा चौक पर बाइक सवार लालकु मार को रोकने पर उसने बताया कि महू से बहन को लेकर ग्राम अंबापाट जा रहे हैं।

Posted By: Nai Dunia News Network

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

Ram Mandir Bhumi Pujan
Ram Mandir Bhumi Pujan