02के एचए-24

फोटो- टैंकर आते ही पानी भरने की होड़ में लोग कोरोना संक्रमण भूल गए। यहां शारीरिक दूरी नजर नहीं आई।

02के एचए-25ए

फोटो- टैंकर से पानी की के न भरकर ले जाती महिलाएं। नईदुनिया

- संत रैदास वार्ड के घासपुरा क्षेत्र में नहीं पहुंच रहा नर्मदा जल

- टैंकर से पानी भरने में शारीरिक दूरी भूले लोग

खंडवा (नईदुनिया प्रतिनिधि)। संत रैदास वार्ड के घासपुरा क्षेत्र में रहने वाले करीब सौ घरों के रहवासी पानी के लिए नगर निगम के टैंकरों पर आश्रित हैं। यहां एक भी घर में नल कनेक्शन नहीं है। ऐसे में यहां नर्मदा जल का वितरण नहीं हो पा रहा है। रविवार को जब यहां टैंकर पहुंचा तो पानी भरने के दौरान लोग शारीरिक दूरी का पालन करना ही भूल गए। क्षेत्रवासियों ने कहा कि सालभर हम टैंकर के पानी पर ही निर्भर रहते हैं।

शहर में एक तरफ जहां नर्मदा की मुख्य पाइप लाइन डिस्ट्रीब्यूशन लाइन से जोड़ी जा रही है वहीं कु छ क्षेत्र ऐसे भी हैं जहां पाइप लाइन बिछी होने के बाद भी घरों में नल कनेक्शन नहीं दिए जा रहे हैं। घासपुरा क्षेत्र स्थित रेलवे कॉलोनी के रहवासी इसी समस्या से जूझ रहे हैं। इस क्षेत्र में करीब सौ घरों के रहवासी नगर निगम से नल कनेक्शन की मांग कर चुके हैं लेकि न तकनीकी समस्या के चलते यहां लोगों को नल कनेक्शन अब तक नहीं दिए जा सके हैं। ऐसे में लोगों को गर्मी हो या बारिश हर मौसम में पेयजल के लिए टैंकर का इंतजार करना पड़ता है। क्षेत्रवासियों ने बताया कि नगर निगम कार्यालय में नल कनेक्शन के लिए आवेदन देने पर उनसे मकानों के टैक्स की रसीद मांगी जाती है। जबकि रेलवे क्षेत्र में मकान होने की वजह से वे कि सी तरह का टैक्स वहन नहीं करते हैं। ऐसे में रसीदें नहीं होने से नल कनेक्शन नहीं जुड़ पा रहा है।

पांच मिनट में खाली हो गया टैंकर

रेलवे कॉलोनी में दोपहर करीब एक बजे जब नगर निगम का टैंकर पहुंचा तो यहां पानी भरने के लिए लोग उमड़ पड़े। इस दौरान लोग कोरोना संक्रमण को ही भूल गए। कु छ लोग पाइप लेकर दौड़े और टैंकर पर चढ़ गए। पानी की के न लेकर महिलाएं दौड़ती नजर आईं। करीब पांच मिनट में ही 500 लीटर का टैंकर यहां खाली हो गया। क्षेत्र की महिलाओं ने बताया कि पानी भरने के लिए उन्होंने पाइप खरीदकर रखे हैं। साथ ही के न और ड्रम भी खरीदे हैं ताकि टैंकर आते ही पानी का पर्याप्त स्टॉक कर सकें ।

- रेलवे पटरी के आसपास रहने वाले लोगों ने नगर निगम में प्रॉपर्टी दर्ज नहीं कराई है। ऐसे में नल कनेक्शन नहीं दिए जा सकते। टैंकरों जलापूर्ति की जा रही है। - राजेश गुप्ता, उपयंत्री, नगर निगम

Posted By:

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस