अप्राकृतिक कृत्य कर बालक की हत्या करने वाले को उम्रकैद

-खालवा थाना क्षेत्र के ग्राम सुकवा का मामला

खंडवा (नईदुनिया प्रतिनिधि)। आठ साल के मासूम बालक के साथ अप्राकृतिक कृत्य कर उसकी गला घोंटकर हत्या करने के मामले में दोषी पाए गए युवराज पुत्र दयाराम चौहान को आजीवन कारावास की सजा हुई है। बुधवार को यह फैसला अतिरिक्त सत्र न्यायाधीश हरसूद आशीष दवंडे ने सुनाया। शासन की ओर से मामले की पैरवी जिला अभियोजन अधिकारी चंद्रशेखर हुक्मलवार और सहायक लोक अभियोजन अधिकारी अनिल चौहान ने की।

मामला खालवा थाना क्षेत्र के ग्राम सुकवा का है। मीडिया सेल प्रभारी जाहिद खान ने बताया कि घटना छह अप्रैल 2018 की है। सुबह करीब सात बजे घर से आठ साल का बालक बिस्किट लेने गया था। मां ने उसे 10 रुपये दिए थे। इसके बाद वह वापस नहीं आया। करीब नौ बजे मां के मोबाइल पर किसी ने फोन कर कहा कि तुम्हारा लड़का कहां है। तुम लड़के को ढूंढो और फोन काट दिया। इसके बाद वह बालक को तलाशते हुए दुकान पहुंची। यहां दुकानदार ने बताया कि बालक बिस्किट लेकर कब से चला गया। वह उसे तलाश ही रही थी कि उसके मोबाइल पर दूसरी बार उसी नंबर से फोन आया। उसने कहा कि तुम्हारा लड़का मिला? जब मां ने नहीं कहा तो उसने कहा कि वह जो कहे वह लेकर आना और फिर से फोन काट दिया। इसके बाद महिला ने बेटे के लापता होने की सूचना खालवा थाने में दी। पुलिस ने प्रकरण दर्ज कर बालक की तलाश शुरू की थी। तलाश करने पर पुलिस को बालक का शव गांव के पास एक कुएं में मिला था।

कुएं के पास मिली थी युवराज की चप्पल

कुएं के पास पुलिस को बालक की हरे रंग की दो चप्पल और बिस्किट के दो पैकेट मिले थे। यहां काले रंग की दो चप्पल भी पड़ी हुई थी। इसे जब्त कर पुलिस ने जांच की। इसके बाद पुलिस ने महिला को आए फोन नंबर की जानकारी निकाली। यह नंबर युवराज का निकला। युवराज ने कुछ ही दिन पहले इस नंबर की सिम रखी थी। पूछताछ करने पर युवराज ने बालक के साथ अप्राकृतिक कृत्य करने के साथ ही गला दबाकर उसकी हत्या करना कबूला था। उसने हत्या के बाद शव को कुएं में फेंक दिया था। चप्पल उसने घटनास्थल पर छोड़ दी थी। इस मामले को सुलझाने में तात्कालिक खंडवा पुलिस अधीक्षक नवनीत भसीन की विशेष भूमिका थी।

Posted By: Nai Dunia News Network

NaiDunia Local
NaiDunia Local