खंडवा (नईदुनिया प्रतिनिधि)। मध्य प्रदेश के वन मंत्री विजय शाह के साथ जालसाजी कर धोखाधड़ी करने का मामला सामने आया है। मंत्री की दिव्यशक्ति गैस एजेंसी में वर्षो से प्रबंधक के पद पर रहे आरोपित बिंशू भालेराव ने लाखों रुपये का गबन किया। फर्जी तरीके से केश बुक में एंट्री कर 16 लाख 21 हजार 670 रुपये का गबन किया। कोतवाली पुलिस ने आरोपित प्रबंधक पर प्रकरण पंजीबद्ध किया है। बताया जा रहा है कि बिंशू भालेराव अब तक चार शादियां कर चुका है, जिसमें पहली पत्नी लता भालेराव, दूसरी अनिता भालेराव, तीसरी लता भालेराव और चौथी पत्नी वंदना है। इसमें से तीसरी पत्नी लता की मौत हो गई। दूसरी पत्नी अनिता के साथ विवाद चल रहा है। भालेराव की सैलरी केवल 10 हजार रुपये थी, लेकिन जांच में उसके पास करोड़ों रुपये की संपत्ति मिली है।

कोतवाली थाने में दिव्यशक्ति गैस एजेंसी मे आपरेटर सुभाष केसनिया निवासी बांम्बे बाजार, कहारवाड़ी ने प्रबंधक बिंशू भालेराव निवासी रामनगर की शिकायत की थी। बिंशू भालेराव प्रबंधक दिव्यशक्ति गैस एजेंसी मालीकुआं में प्रबंधक के पद पर वर्ष 1999 से कार्यरत है। आरोपित ने एक अप्रैल 2020 से 16 सितंबर 2022 तक पदस्थ रहने के दौरान सेल्स आफिसर के नाम पर उधार वसूली की, गैस चूल्हों और रेगुलेटर का बिना लिखा-पढ़ी के बेच दिए, फर्जी तरीके से केस बुक मे एंट्री की। इस तरह से आरोपित ने 16 लाख 21 हजार 670 रुपये का गबन किया। इस फर्जीवाड़े के बारे में आडिट रिपोर्ट प्राप्त होने पर प्राफिट एण्ड लास एकाउंट व बैलेश शीट, केशबुक खातों को देखने पर पता चला।

इन रुपयों का उपयोग उसने स्वंय किया। इसके बाद उसने पकड़े जाने के डर से केश बुक में स्वंय के हस्ताक्ष कर फर्जी तरीके से एंट्री की। इस बारे में आपेरटर सुभाष ने दिव्यशक्ति गैस एजेंसी की मुख्य प्रबंधक पदमिनी दिव्यदित्य शाह को जानकारी दी। इसके बाद शुक्रवार को रात में कोतवाली थाने में सुभाष ने प्रबंधक बिंशू भालेराव की शिकायत की। इस मामले को लेकर नगर पुलिस अधीक्षक पूनमचंद्र यादव ने बताया कि आरोपित बिंशू पर धारा 409 और 420 में प्रकरण पंजीबद्ध किया गया है। आरोपित की तलाश में टीम को रवाना किया है। उसे शीघ्र पकड़ लिया जाएगा।

Posted By:

NaiDunia Local
NaiDunia Local
  • Font Size
  • Close