हरसूद (नईदुनिया न्यूज)। नगर परिषद क्षेत्र की मेधावी छात्राओं को कालेज में गांव की बेटी योजना का लाभ मिल सकेगा। हरसूद की एक छात्रा को इंदौर के होलकर कालेज में गांव बेटी मानने से इंकार कर दिया गया था। इसके बाद छात्रा ने प्रशासन से योजना का लाभ दिलवाने की गुहार लगाई थी। इन कोशिशों के बाद कालेज प्रबंधन द्वारा उसे पात्र मानने से छात्रा साक्षी पुत्री अक्षय गौतम सहित अन्य मेधावी छात्राओं को उच्च शिक्षा के लिए आर्थिक संकट का सामना नहीं करना पड़ेगा।

हरसूद नगर परिषद क्षेत्र की सेक्टर नंबर छह निवासी छात्रा साक्षी अक्षय गौतम को इंदौर होलकर कालेज बीएससी, बायोटेक प्रथम वर्ष में प्रवेश मिला है। शासन की योजना के अनरूप छात्रा को गांव की बेटी योजना में लाभ मिलना था लेकिन कालेज प्रबंधन ने नगरीय क्षेत्र की निवासी होना बताकर साक्षी को योजना का लाभ देने से इन्कार कर दिया था। साक्षी ने बताया कि इस संबंध में हरसूद एसडीएम कार्यालय में आवेदन देकर योजना का लाभ दिलाने की गुहार की थी लेकिन वहां से भी राहत नहीं मिली। इसके पश्चात जिला पंचायत सीईओ खंडवा से अपील की गई थी। इस मामले में आगामी कार्रवाई के लिए जिले के नोडल अधिकारी प्राचार्य एसएन कालेज डॉ. मुकेश जैन को निर्देश दिए गए थे। इस संबंध में प्राचार्य जैन ने छात्रा साक्षी को योजना का लाभ मिलने का हवाला देते हुए पात्र होने से अवगत कराया गया है।

नईदुनिया ने दो जनवरी के अंक में छात्रा साक्षी की समस्या को प्रमुखता से प्रकाशित किया था। इसके बाद प्रशासन ने इस मामले को गंभीरता से लेते हुए उच्च शिक्षा विभाग को नोडल कालेज के माध्यम से पत्र भेजा गया था।

उच्च शिक्षा विभाग का आदेश

उच्च शिक्षा विभाग वल्लभ भवन भोपाल के अपर सचिव वीरसिंह भलावी द्वारा 19 फरवरी 2021 को पारित आदेश में यह स्पष्ट किया है कि वर्ष 2009 की कंडिका 1.8 में ग्रामीण क्षेत्र की परिभाषा भू-राजस्व संहिता 1959 के प्रावधानों के अनुरूप केवल नगर पंचायतों को ग्रामीण क्षेत्र माना जाएगा का उल्लेख था लेकिन नगर पालिका अधिनियम 1961 की धारा 5 में वर्ष 2011 में हुए संशोधन में गांव की बेटी योजना की 1.8 कंडिका में नगर पंचायत के स्थान पर नगर परिषद शब्द स्थापित करने के आदेश पारित किए गए हैं। इससे सैकड़ों मेधावी छात्राओं को उच्च शिक्षा में गांव की बेटी योजना व छात्रवृति का लाभ मिल सकेगा।

* - उच्च शिक्षा विभाग के आदेश से सरकार की महती योजना से सैकड़ों मेधावी छात्राओं को भी लाभ मिल सकेगा। इन्हें आदेश की तकनीकी परिभाषा का हवाला देकर नगरीय क्षेत्र की पात्र छात्राओं को कई महाविद्यालयों में अपात्र कर दिया जाता है। -अक्षय गौतम, हरसूद

* गांव की बेटी योजना में नगर परिषद क्षेत्र की मेधावी छात्रा को भी पात्र माना गया है। शासन के आदेश में पंचायत का उल्लेख होने से इंदौर के महाविद्यालय में कुछ संशय था जो स्पष्ट हो गया है। साक्षी सहित अन्य पात्र छात्राओं को इसका लाभ मिल सकेगा। -डॉ. मुकेश जैन, प्राचार्य एसएन कालेज खंडवा

Posted By: Nai Dunia News Network

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

 
Show More Tags