खंडवा। ओंकारेश्वर बांध के 18 गेट से पानी छोड़ा जा रहा है। यहां घाट जलमग्न हैं और सात टरबाइन से बिजली बनाई जा रही है। इसके साथ ही इंदिरा सागर बांध के 14 गेट से भी पानी छोड़ा जा रहा है।

दोनों बांधों के गेट पिछले तीन दिनों से खुले हुए हैं। नर्मदा पूरे उफान पर है। ओंकारेश्वर में हालात का जायजा लेने के लिए रविवार को कलेक्टर तन्वी सुंद्रीयाल पहुंचीं।

उन्होंने यहां घाट पर किसी भी श्रद्धालु के नहीं जाने और दुकानें नहीं लगाने के निर्देश दिए। विदित हो कि ओंकारेश्वर में घाटों पर जलस्तर बढ़ने के बाद यहां श्रद्धालुओं की आवाजाही रोक दी गई है। ज्योतिर्लिंग ओंकारेश्वर और ममलेश्वर में दर्शन-पूजन जारी है। इंदौर-इच्छापुर मार्ग पर मोरटक्का पुल से नर्मदा का पानी दूर है।