खंडवा (नईदुनिया प्रतिनिधि)। 15 दिन पहले रेलवे स्टेशन पर रिश्वत लेते हुए वीडियो वायरल होने के बाद आरपीएफ की जांच जारी है। इस मामले में आरोपित एएसआइ रामलाल गुर्जर व कांस्टेबल रवि झाला को लाइन अटैच किया गया है। इधर आरपीएफ के अधिकारी सिर्फ जांच के लिए भुसावल अटैच की बात कह रहे हैं। अभी तक वीडियो की पुष्टि नहीं हो सकी है।

खंडवा रेलवे स्टेशन पर कार्य करने वाले मैनेजर राजकुमार श्रीवास ने आरपीएफ जवानों पर रिश्वत लेने का आरोप लगाकर भुसावल मुख्यालय में शिकायत की थी। इस दौरान उसने स्टेशन पर किसी से पैसे लेते हुए एक वीडियो भी दिया था। जिसमें आरपीएफ के सब इंस्पेक्टर के होने की बात कही थी। थाना प्रभारी ने इस वीडियो में किसी यात्री के होने की जानकारी देकर जांच के निर्देश दिए थे।

इसके बाद भुसावल मंडल से दोनों कर्मचारियों को भुसावल, मुंबई व खंडवा में बयान के लिए बुलाया जाता रहा। अभी तक मामले में जांच पूरी नहीं हुई है। थाना प्रभारी जय सिंह के अनुसार दोनों को भुसावल में अटैच किया गया है। ताकि बार-बार जांच व बयान के लिए आना-जाना न करना पड़े। केस की जांच पूरी होने पर ही कार्रवाई का पता चल सकेगा।

मैनेजर का कैंटीन हो चुका है सील

इस मामले में रेलवे मैनेजर राजकुमार श्रीवास का कैंटीन एक सप्ताह पहले सील किया जा चुका है। इस पर आइआरसीटीसी का 38 लाख रुपये बकाया होने पर कार्रवाई की गई। इसके साथ ही आरपीएफ थाने में कई मामलों में अपराध दर्ज है। जिनमें से कुछ पर जमानत मिली हुई है। मैनेजर ने भी आरपीएफ पर हर माह पैसे लेने का आरोप लगाया था।

खंडवा में हुए बयान

मंगलवार को एएसआइ रामलाल के खंडवा आरपीएफ में बयान दर्ज किए। अभी तक दस से अधिक बार दोनों कर्मचारियों के बयान दर्ज किए जा चुके हैं।

Posted By: Prashant Pandey

NaiDunia Local
NaiDunia Local
  • Font Size
  • Close