खरगोन (नईदुनिया प्रतिनिधि)। भगवानपुरा जनपद के टीकाकरण सत्रों का अवलोकन करने के बाद बुधवार को कलेक्टर अनुग्रहा पी बिस्टान मामले के मृतक बिसन पुत्र हाबू के परिजनों से मिलने खेरकुंडी पहुंची। परिजनों से चर्चा करते हुए कलेक्टर अनुग्रहा पी ने उसके स्वजनों की शिक्षा, खेती, वर्तमान कार्य आदि के बारे में जानकारी ली। मृतक बिसन की पत्नी रमतू बाई से चर्चा के दौरान कहा कि दोषी लोगों को सजा मिले। यहीं वो चाहती है। कलेक्टर अनुग्रहा ने रमतू बाई को आश्वस्त किया कि न्यायिक जांच की रिपोर्ट आने के बाद दोषियों पर निश्चित कार्रवाई होगी। कलेक्टर अनुग्रहा ने मृतक के पुत्र मिथून और उनकी पत्नी की शिक्षा के बारे में भी जानकारी ली। रमतू बाई से कहा कि अगर सिलाई करना जानती है तो कुछ दिनों के प्रशिक्षण के बाद सिलाई मशीन आदि की स्वीकृति कर दी जाएगी।

इस दौरान ग्रामीणों और सरपंच कैलाश बर्डे से ग्रामीणजनों की आवश्यकता की जानकारी ली। सरपंच ने बताया कि पेयजन की समस्या है हालांकि पीएचई विभाग द्वारा कार्य चल रहा है। मगर वन विभाग की अनुमति नहीं होने से कार्य अभी बंद है। कलेक्टर ने तुरंत डीएफओ से चर्चा कर मामले के बारे में अवगत कराया और निर्माण कार्य की जरुरत व पेयजल की आपूर्ति के बारे में जानकारी दी। मौके पर उपस्थित जनपद सीईओ को रोड से बिसन हाबू के फलिया तक सुदूर सड़क और दो नवीन पुलिया का प्रस्ताव दो दिनों के भीतर प्रस्तुत करने के निर्देश दिए। कलेक्टर अनुग्रहा ने सरपंच से कहा कि गांव का शत-प्रतिशत टीकाकरण करवाएं। फलिया में भी सत्र का आयोजन किया जाएगा। उल्लेखनीय है आरोपित बिसन को पुलिस ने लूट के आरोप में गिरफ्तार किया था। उसकी जिला जेल में मौत हो गई थी। इस घटना के बाद आदिवसी समाजजनों ने पीड़ित परिवार को 1 करोड़ रुपये आर्थिक सहायता और परिवार के एक सदस्यों को शासकीय नौकरी देने की मांग की। वहीं इस मामले में पहले चार पुलिसकर्मियों और जिला जेल अधीक्षक को सस्पेंड किया गया। वहीं एसपी शैलेंद्रसिंह का स्थानांतरण कर दिया गया। वहीं थाना प्रभारी और एसडीओपी को भी हटा दिया गया है।

Posted By: Nai Dunia News Network

NaiDunia Local
NaiDunia Local