खरगोन (नईदुनिया प्रतिनिधि)। बर्ड फ्लू की पुष्टि के बाद जिले में लगातार पक्षियों की मौत के मामले आ रहे हैं। सबसे ज्यादा मौतें कौओं की हुई है। अन्य पक्षियों की मौत ने भी चिंता बढ़ाई है।

पिछले 10 दिनों में जिले में 80 पक्षियों की मौत हो चुकी है। इनमें सबसे ज्यादा 47 कौओं की मौत हुई है। कबूतर, चिड़िया, तोता, मैना, मुर्गी, जलमुर्गी, बगुला, वूली नेक स्ट्रोक पक्षी भी शामिल हैं। पशु चिकित्सा सेवाएं विभाग के उपसंचालक डॉ. सीके रत्नावत ने बताया कि जिले में 42 टीमें बनाई गई हैं। इनमें डॉक्टर सहित अन्य कर्मचारी शामिल है। टीमें लगातार क्षेत्र में निगरानी रख रही है। तालाबों और जिन स्थानों पर पक्षी आते हैं, वहां भी निगरानी रखी जा रही है। जो लोग पक्षी पालते हैं, उन्हें भी सावधानी रखने की जरूरत है। पक्षियों को दूर रखें। उनके खाने के बर्तनों और जगह को लगातार साफ रखें। यदि मृत पक्षी दिखाई दे तो उसे हाथ न लगाएं। तत्काल कंट्रोल रूम में सूचना दें। जिले से लगातार सैंपल भोपाल स्थित स्टेट एनिमल्स डिजीज इनवेस्टीगेशन लेबोरेटरी में भेजे जा रहे हैं। अब तक दो पक्षियों में बर्ड फ्लू की पुष्टि हुई है। बर्ड फ्लू के नियंत्रण के लिए कंट्रोल रूम बनाया गया है। इसका नंबर 07282-234614 है।

जिले में अब तक हुई पक्षियों की मौत

दिनांक पक्षियों की संख्या पक्षी

4 जनवरी 17 कौआ

5 जनवरी 1 कौआ

6 जनवरी 3 कौआ

7 जनवरी 3 कौआ

8 जनवरी 7 कौआ

9 जनवरी 5 कौआ, चिड़िया

10 जनवरी 5 कौआ, चिड़िया

11 जनवरी 5 कौआ, कबूतर, चिड़िया

12 जनवरी 25 कौआ, कबूतर, चिड़िया, तोता, मैना, मुर्गी, वूली नेक स्ट्रोक

13 जनवरी 9 कौआ, कबूतर, चिड़िया, बगुला, जलमुर्गी

इन पक्षियों की अब तक मौत

कौआ 47

कबूतर 13

चिड़िया 8

तोता 4

मैना 3

मुर्गी 2

वूली नेक स्ट्रोक 1

बगुला 1

जलमुर्गी 1

(आंकड़े पशु चिकित्सा सेवाएं विभाग से प्राप्त।)

Posted By: Nai Dunia News Network

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस