*निर्णय

*जाति प्रमाण पत्र और चुनाव आवेदन में नाम में अंतर होने के कारण की गई कार्रवाई

खरगोन (नईदुनिया प्रतिनिधि)। नगरीय निकाय निर्वाचन अंतर्गत सोमवार को नाम निर्देशन पत्रों की संवीक्षा की गई। इस दौरान वार्ड क्रमांक 23 के नाम निर्देशन पत्र प्रस्तुत करने वाले अमजद पुत्र शेर खान के नामांकन के लिए मंगलवार को जिला निर्वाचन अधिकारी कुमार पुरुषोत्तम द्वारा संवीक्षा की गई। इसके बाद आदेश जारी किया गया। जारी आदेशानुसार अमजद निवासी न्यू काजीपुरा द्वारा निर्धारित प्रारूप तीन में नाम निर्देशन पत्र प्रस्तुत किया गया। संवीक्षा के दौरान राजकुमार आर्य ने अमजद द्वारा प्रस्तुत जाति प्रमाण पत्र पर आपत्ति ली। इसमें बताया गया कि अमजद खान के समस्त दस्तावेजों में अमजद खान पिता शेर खान लिखा हुआ है, जबकि जाति प्रमाण पत्र में अमजत पिता शेरखां लिखा है। साथ ही इन पर कई आपराधिक प्रकरण चल रहे हैं। हालांकि जिला निर्वाचन अधिकारी कुमार पुरुषोत्तम ने इनके आपराधिक प्रकरणों को संवीक्षा का हिस्सा नहीं माना है।

आपत्ति के संबंध में अमजद ने 20 जून को ही जवाब प्रस्तुत किया था। इसमें अमजद ने कहा कि उनके स्थायी जाति प्रमाण पत्र में त्रुटि से अमजद पिता शेर खान के स्थान पर अमजत पिता शेरखां टंकित हो गया है। अमजत पिता शेरखां व अमजद पिता शेरखान दोनों एक ही व्यक्ति के नाम होकर मेरा ही नाम है। साथ ही मेरे द्वारा प्रस्तुत जाति प्रमाण पत्र मेरे नाम से ही जारी हुआ है। जिला निर्वाचन अधिकारी द्वारा आपत्ति और प्रस्तुत जवाब की जांच की गई। जांच में पाया गया कि जारी प्रमाण पत्र 11 वर्ष पुराना है और यह अमजत पिता शेरखां के नाम से जारी किया गया है, जबकि अभ्यर्थी द्वारा अमजद के नाम से प्रस्तुत निर्देशन पत्र व संलग्न समस्त दस्तावेजों में अमजद पिता शेरखान का नाम अंकित है।

आवेदक पर दर्ज हैं 14 आपराधिक प्रकरण

वही अभ्यर्थी द्वारा प्रस्तुत निर्देशन पत्र के साथ संलग्न शपथ पत्र का भी अवलोकन किया गया। शपथ पत्र के बिंदु क्रमांक पांच, जो आपराधिक मामलों की प्रविष्टि से संबंधित है। इसमें प्रकरणों का उल्लेख किया गया। इसके अनुसार विभिन्ना थाना क्षेत्रों में कुल 14 आपराधिक प्रकरण विभिन्ना धाराओं के अंतर्गत पंजीबद्ध किए गए हैं। अभ्यर्थी अमजद को अपना पक्ष रखने के लिए 24 घंटे का समय देने के बाद भी अभ्यर्थी द्वारा अमजद पुत्र शेरखान के नाम से सक्षम प्राधिकारी द्वारा जारी जाति प्रमाण पत्र प्रस्तुत नहीं किया गया। नामांकन पत्र के साथ साथ दाखिल जाति प्रमाण पत्र में अमजत शेरखां नाम का उल्लेख है। इसलिए मप्र नगर पालिका निर्वाचन नियम 1994 के अध्याय-चार के नियम 24 (1) के अनुसार पूर्ति नहीं करने पर नाम निर्देशन पत्र निरस्त किया गया है।

Posted By:

NaiDunia Local
NaiDunia Local
  • Font Size
  • Close