झिरन्या (खरगोन)। आदिवासी अंचल के छोटे से गांव रतनपुर के ऐश्वर्यप्रताप सिंह तोमर जून 2020 में टोक्यो में आयोजित ओलिंपिक निशानेबाजी में भारत का प्रतिनिधित्व करेंगे। उनके पिता वीर बहादुरसिंह तोमर किसान हैं। ऐश्वर्य की इस बड़ी उपलब्धि से सभी खुश हैं।

ऐश्वर्य प्रताप सिंह तोमर ने 14वीं एशियाई शूटिंग प्रतियोगिता में पुरुष वर्ग की 50 मीटर राइफल थ्री पोजीशन स्पर्धा में कांस्य पदक जीतकर टोक्यो ओलिंपिक का कोटा हासिल किया।

ऐश्वर्य खेल अकादमी भोपाल के छात्र हैं। उन्होंने राष्ट्रीय और अंतरराष्ट्रीय स्तर पर देश को स्वर्ण पदक सहित रजत और कांस्य पदक दिलाए हैं। शूटिंग अकादमी के खिलाड़ी ऐश्वर्य ने मई 2019 तक अंतरराष्ट्रीय प्रतियोगिताओं में एक स्वर्ण और एक कांस्य पदक देश को दिलाया है जबकि राष्ट्रीय प्रतियोगिताओं में 9 स्वर्ण और दो-दो रजत व कांस्य पदक अर्जित किए हैं।

चेलेंजिंग था मैच, सफलता के बाद सुखद अनुभव

ऐश्वर्य के पिता वीर बहादुरसिंह तोमर ने कहा कि बेटा ओलंपिक में स्वर्ण पदक जीतकर दुनिया में भारत को गौरवान्वित करेगा। ऐश्वर्य ने दोहा (कतर) से दूरभाष पर नईदुनिया से चर्चा की। उन्होंने कहा कि आज का मैच बहुत चैलेंजिंग था। वहां का मौसम आज शूटिंग के लिए उपयुक्त नहीं था, क्योंकि तेज हवा से लक्ष्य प्राप्त करना बहुत मुश्किल था। इस स्थिति में मिली सफलता से उन्हें अच्छा अनुभव हो रहा है। अब वे और अधिक मेहनत कर ओलंपिक में हिस्सा लेंगे।

सतत मेहनत कर रहे

ऊर्जा से लबरेज ऐश्वर्य ने कहा कि इन सफलताओं में माता-पिता और चचेरे भाई नवदीपसिंह का बड़ा योगदान रहा जिन्होंने मुझे परामर्श देकर खेल अकादमी भोपाल में प्रवेश दिलाया। इसके बाद शीर्ष पर पहुंचाने के लिए उनके कोच सुमा सिरूर को अपना आदर्श मानते हैं। उन्होंने कहा कि उनके साथ अन्य प्रतियोगिताओं में भाग लेने के लिए भारत से 40 से अधिक खिलाड़ियों का दल आया है। ऐश्वर्य ने बताया कि वे एक नवंबर से दोहा में हैं। इस लक्ष्य को प्राप्त करने के लिए सतत मेहनत कर रहे थे।

इसे बड़ी खुशी क्या हो सकती है

इस सफलता पर उनके पिता वीर बहादुरसिंह तोमर और माता हेमा तोमर ने बताया कि बेटा दुनिया में भारत का नाम रोशन कर रहा है। इससे बड़ी खुशी की बात उनके लिए क्या हो सकती है।

Posted By: Hemant Upadhyay