खरगोन(नईदुनिया प्रतिनिधि)। जिला पुरातत्व, पर्यटन एवं संस्कृति परिषद के माध्यम से आयोजित स्वच्छता पखवाड़े के अंतर्गत मंडलेश्वर-महू रोड़ स्थित पयर्टन स्थल जाम गेट पर स्वच्छता अभियान चलाया गया। विदित है कि खरगोन जिले के महेश्वर विकासखंड की आखरी सीमा ग्राम पंचायत बागदरा व वनमंडल बड़वाह की वनभूमि पर स्थित जामगेट अत्यंत प्राचीन होकर रमणीक स्थल है।

गतिविधि प्रभारी व मुख्य कार्यपालन अधिकारी जनपद पंचायत महेश्वर मीना झा ने बताया कि पर्यटन स्वच्छता पखवाड़े के तहत जामगेट पर पंचायत विभाग के कर्मचारियों व गेट पर नियुक्त कर्मचारियों द्वारा संयुक्त रूप से सफाई की गई। कलेक्टर अनुग्रहा पी के निर्देशानुसार जामगेट पर संकेतक भी लगाए गए हैं। पर्यटकों से लिए जाने वाले शुल्क व वाहन शुल्क से प्राप्त आय के माध्यम से अन्य सुविधाएं इस स्थल पर विकसित की जा रही हैं। कचरा व गंदगी फैलाने वाले व्यक्तियों से दंड भी वसूला जाएगा।

जिला नोडल अधिकारी नीरज अमझरे ने बताया कि जामगेट जिले का एक रमणीय स्थल है। यह स्थल इंदौर से करीब 50 व मंडलेश्वर से 28 किलोमीटर दूर घने जंगलों के बीच स्थित है। होल्कर स्टेट की दोनों राजधानियां महेश्वर व इंदौर के रास्ते के बीच में पहाड़ी के मुहाने पर यह गेट इस तरह बनाया गया था कि रास्ते के दोनों तरफ नजर रखी जा सके। इसे एक चेक पाइंट के तौर पर बनाया गया था। गेट पर खड़े होकर सैनिक निमाड़ में पहाड़ी की तराई में होने वाले हलचल पर आसानी नजर रख सकते थे। जामगेट को निमाड़ मालवा का प्रवेश द्वार भी कहा जाता है। यहां हजारों की संख्या में पर्यटक आने लगे हैं।

पालीथिन उपयोग प्रतिबंधित करते हुए खाकरे के पत्ते से बने दोने आदि को प्रोत्साहित किया जाएगा। पर्यटकों द्वारा गेट के आस पास पहाड़ी के झाड़ियों में प्लास्टिक व बोतल आदि फेंकी जा रही है। इसके लिए ठेलागाड़ी व दुकानदारों को डस्टबीन रखने के लिए निर्देशित किया गया है। साथ ही इन दुकानदारों को स्वच्छता मित्र बनाते हुए पर्यटकों को कचना डस्टबीन में डालने का आग्रह करने के लिए कहा गया है। भविष्य में इन स्वच्छता मित्रों का स्वच्छता व पयर्टकों से लिए जाने वाले अतिथि सत्कार के संबंध में प्रशिक्षण भी आयोजित किया जायेगा। स्वच्छता कार्यक्रम के दौरान पंचायत सचिव मगन मकवाने, सरदार गिरवाल, जितेंद्र वारिया, सुनिल दरबार आदि उपस्थित थे।

Posted By: Nai Dunia News Network

NaiDunia Local
NaiDunia Local