बड़वाह (नईदुनिया न्यूज)। स्वास्थ्य विभाग से जुड़ी शिकायतों का आंकड़ा बढ़ रहा है, वहीं टीकाकरण व फैमिली प्लानिंग का प्रतिशत भी डाउन हुआ है। इन समस्याओं के निराकरण के लिए कलेक्टर के निर्देश पर शनिवार को सीएमएचओ डा. दौलतसिंह चौहान शासकीय अस्पताल पहुंचे। उन्होंने स्वास्थ्य कर्मचारियों के साथ समीक्षा बैठक ली। करीब तीन घंटे तक हुई पाइंट टू पाइंट चर्चा करके उन्होंने जल्द शिकायतों का निराकरण करने के निर्देश दिए। साथ ही उन्होंने बीएमओ को निर्देश दिए है की जिन एएनएम के टीकाकरण में 70 प्रतिशत से कम उपलब्धि है, उनको कारण बताओ सूचना पर जारी किए जाए। साथ ही उसमें उल्लेखित हो की अगले माह तक टीकाकरण शत-प्रतिशत नहीं होने पर एक वेतनवृद्धि रोकी जाएगी। बीएमओ डा. सुनील वर्मा ने बताया कि ब्लाक में टीकाकरण का प्रतिशत कम होने के मुख्य कारण 19 उपस्वास्थ्य केंद्र एनएनएम रहित है। इसके लिए अतिरिक्त वाहन व्यवस्था देने का निवेदन सीएमएचओ को किया। बीपीएम, बीसीएम, बीईई को निर्देश दिए की संस्थावार प्रत्येक कार्यक्रम की जानकारी प्रस्तुत करे। इस दौरान डा. चंद्रजीत सांवले, डा. रेवाराम कोंशले, प्रमोद महाजन, बीपीएम नीरज वर्मा, खंड विस्तार प्रशिक्षक जगदीश खेड़ेकर, बीसीएम प्रीति पाटिल, रवि देशवाली आदि मौजूद थे।

सिविल अस्पताल में संसाधन बढाएंगे

मीडियाकर्मियों ने सीएमएचओ को बताया की सिविल अस्पताल इंदौर-इच्छापुर राजमार्ग से जुड़ा है। आए दिन दुर्घटनाओ में कई गंभीर मरीज उपचार के लिए आते हैं। संसाधन और स्टाफ की कमी से परेशानी होती है। अस्पताल में हड्डी रोग विशेषज्ञ पदस्थ है। परंतु टेक्निशियन की कमी है। इसकी वजह से मरीजों को प्लास्टर भी नहीं लग पाता है। सीएमएचओ ने कहा कि यदि ऐसा है तो हम जल्द ही व्यवस्था कर प्लास्टर लगवाना शुरू करेंगे। एमडी मेडिसिन डा. राम जायसवाल की संविदा नियक्ति को छह माह और बढ़ाने के लिए भी प्रयास करने की बात सीएमएचओ ने कही। समीक्षा बैठक में सीएमएचओ ने स्वास्थ्यकर्मियों से कहा कि मध्यप्रदेश शासन का पूरा जोर मातृ व शिशु मृत्यु दर कम करने पर है। इसलिए प्रयास करे कि गर्भवती महिला का शत प्रतिशत रजिस्ट्रेशन हो। समस्त जांचे समय पर हो। हाई रिस्क गर्भवती को पूर्ण देखभाल मिले। संस्थागत प्रसव पर जोर दिया जाए।

Posted By: Nai Dunia News Network

NaiDunia Local
NaiDunia Local
  • Font Size
  • Close