*अभ्यास

*बलवा ड्रिल में शामिल हुए पुलिस जवान और अधिकारी

खरगोन (नईदुनिया प्रतिनिधि)। पुलिस लाइन में रविवार को उस समय अफरा-तफरी फैल गई, जब कुछ दंगाइयों ने पुलिसकर्मियों पर पथराव शुरू कर दिया, नारेबाजी भी की। भीड़ का बढ़ता उपद्रव देख पुलिसकर्मियों ने न केवल फायरिंग की बल्कि हथगोले, लाठीचार्ज और आंसू गैस के गोले भी दागे। इसमें कुछ पुलिसकर्मियों को चोट आई तो वहीं एक दंगाई घायल हो गया। घायलों को स्ट्रेचर से उठाकर एबुलेंस की मदद से इलाज के लिए भेजा गया।

यह कोई शहर के बिगड़े हालातों का जायजा नहीं बल्कि हालत बिगड़ने पर कैसे स्थिति को काबू में किया और कैसे दंगाइयों पर काबू पाया जाए, इसकी तैयारियों का पूर्वाभ्यास का हिस्सा था। शहर में गत अप्रैल माह में हुई हिंसा से सबक लेते हुए आगामी त्रि-स्तरीय पंचायत, नगर निकाय चुनाव और त्यौहारों को देखते हुए रविवार सुबह आला अधिकारियों की निगरानी में पुलिस लाइन में बलवा ड्रिल का आयोजन हुआ। जैसे ही अधिकारियों का इशारा मिला एक टीम ने दूसरी टीम पर पथराव शुरु कर दिया। पुलिस लाइन में आयोजित इस अभ्यास में यह बताया गया कि स्थिति को काबू में कैसे करेंगे। एसपी धर्मवीर सिंह ने बताया जिले में शांति व्यवस्था बनाए रखने के लिए पुलिस लाइन परिसर में दंगा नियंत्रण बलबा माक ड्रिल का अभ्यास पुलिस कर्मियों ने किया। ड्रिल के माध्यम से विपरीत परिस्थितियों में पुलिस टीम का जज्बा परखा गया। दंगा होने की स्थिति में पुलिस के एक्शन में आने के साथ ही इन हालात से निपटने के लिए किस रैंक के अधिकारी को किस तरह से अपनी भूमिका को तय करके एक्शन में आना है। इसका अभ्यास कराया गया। एएसपी ग्रामीण जितेंद्र सिंह पंवार, एएसपी शहर मनीष खत्री के नेतृत्व में बाडीगार्ड, हेलमेट, एलबोगार्ड, शील्ड, केन, लाठी, टियर-स्मोक गैस, राइफल आदि का प्रयोग कानून व व्यवस्था को संभालने के लिए किस प्रकार किया जाता है, इसका कर अभ्यास कराया गया।

Posted By: Nai Dunia News Network

NaiDunia Local
NaiDunia Local
  • Font Size
  • Close