ठनगांव। सार्वजनिक रामलीला मंडल द्वारा रामलीला का मंचन किया जा रहा है। इसके तहत बीती रात कलाकारों ने राम-हनुमान मिलन, बाली-सुग्रीव संवाद, बालि वध, सुग्रीव के राजतिलक की लीला का मंचन किया। इस दौरान राम-हनुमान मिलन की लीला ने दर्शकों की आंखें नम कर दी। संचालक अशोक कुशवाह और श्रीराम कुशवाह ने रामायण से जुड़े प्रसंगों के बारे में दर्शकों को बताया। इसके बाद रामलीला मंच पर वानर राज बाली का दरबार दिखाया जाता है। जहां हनुमान द्वारा राम-लक्ष्‌मण की सुग्रीव से मुलाकात का वृतांत सुनाता है। इतनी ही देर में बाली के महल के बाहर आकर सुग्रीव उसे युद्ध के लिए ललकारता है। दोनों भाईयों में युद्ध होता है। श्रीराम अपने धनुष से बाली को मार देते हैं। इसके बाद सुग्रीव का राजतिलक होता है। मंसाराम, जितेंद्र कुशवाह ने कहा कि रामलीला हमारी धरोहर हैं। यह संयुक्त परिवार, बड़े-छोटे का सम्मान सिखाती है। इसका हर प्रसंग जीवन में सीख देती है।

जगह-जगह कन्या भोज आयोजन

सेंधवा। नवरात्रि की नवमी पर जगह-जगह कन्या भोज और भंडारा आयोजन हुए। मां बड़ी बिजासन मंदिर में नवमी पर हजारों भक्तों ने दर्शन किए। नवमी पर यज्ञ की पूर्णाहुति हुई इसके बाद कन्या भोज का आयोजन किया गया। मां छोटी बिजासन माता मंदिर में भंडारे का आयोजन किया गया। इसमें बड़ी संख्या में श्रद्धालुओं ने प्रसादी ग्रहण की। इसी प्रकार शहर के निकट बायपास स्थित जीण माता मंदिर में गिरवरदयाल शर्मा परिवार के द्वारा कन्या भोज और भंडारे का आयोजन किया गया ।

शहर की ड्रीम लैंड सिटी कालोनी में अष्टमी की रात गरबों का आयोजन किया गया। इसमें ग्राम कोलकी की गरबा मंडली द्वारा रंगारंग प्रस्तुति देकर सबका मन मोह लिया। गरबा मंडली द्वारा 10 ताली से लेकर 15 ताली सहित हैरतअंगेज करतब वाले गरबे पर प्रस्तुत किए गए।

Posted By: Nai Dunia News Network

NaiDunia Local
NaiDunia Local