सुविधा : 19 हजार उपभोक्ताओं का 15 दिनों में होगा सर्वे, शहरी क्षेत्र में एक साल में काम पूरा करेंगे

खरगोन (नईदुनिया प्रतिनिधि)। पश्चिम क्षेत्र विद्युत वितरण कंपनी शहर में बिजली के वर्तमान मीटरों के स्थान पर स्मार्ट मीटर लगाएगी। शासन ने दिसंबर में स्मार्ट मीटर लगाए जाने की घोषणा की थी। इस घोषणा के बाद टेंडर प्रक्रिया पूर्ण होने के बाद वर्ष 2020 में कंपनी द्वारा शहरी क्षेत्र में सर्वे कार्य शुरू किया गया। कोरोना काल के दौरान तीन से चार माह में सर्वे कार्य प्रभावित हुआ। बिजली कंपनी ने अनलॉक प्रक्रिया फिर से सर्वे कार्य शुरू किया। शहरी क्षेत्र में स्थित 38 हजार 300 उपभोक्ताओं में से 50 प्रतिशत का सर्वे हो चुका है। वहीं 19 हजार उपभोक्ताओं का सर्वे किया जाना है। बचे हुए सर्वे कार्य के लिए कर्मचारियों को 15 दिन का समय दिया गया है। सबकुछ ठीक रहा तो आगामी 15 अक्टूबर से शहरी क्षेत्र में स्मार्ट मीटर लगाने की प्रक्रिया शुरू हो जाएगी।

बिजली कंपनी के अधिकारियों ने बताया कि शहरी क्षेत्र में कंपनी द्वारा स्मार्ट मीटर लगाने का काम एक वर्ष में पूरा किया जाएगा। शहरी क्षेत्र में कंपनी 38 हजार 300 मीटरों को बदलकर स्मार्ट मीटर लगाएगी। इससे बिजली चोरी सहित बिलों में आने वाली परेशानियों से उपभोक्ताओं को छुटकारा मिलेगा। इंदौर शहर में लगाए गए स्मार्ट मीटर के बाद व्यवस्था में सुधार हुआ। इसे देखते हुए जिले सहित अन्य जिलों में भी स्मार्ट मीटर लगाने का निर्णय लिया गया है। बिजली कंपनी खरगोन सहित देवास, उज्जैन, रतलाम और महू में स्मार्ट मीटर लगाएगी।

नहीं वसूलेंगे कोई शुल्क

कंपनी के अधीक्षण यंत्री डीके गाठे और कार्यपालन यंत्री श्रीकांत बारस्कर ने बताया कि शहरी क्षेत्र में रेडियो फ्रीक्वेंसी मीटर लगाए जाएंगे। घरेलू, गैर घरेलू और व्यावसायिक सहित सभी मीटरों को बदला जाएगा। इन मीटरों के लिए विद्युत वितरण कंपनी उपभोक्ताओं से कोई भी शुल्क नहीं लेगी।

प्रत्येक फीडर पर लगेगा राउटर सिस्टम

कार्यपालन यंत्री बारस्कर ने बताया कि स्मार्ट मीटर के लगने के बाद प्रत्येक फीडर के 300 से 400 मीटर एरिया में एक राउटर सिस्टम लगाया जाएगा, जो उस क्षेत्र के सभी मीटरों का डेटा बिजली कंपनी के कंट्रोल रूम को भेजेगा। इन स्मार्ट मीटर में अलार्म, रिमोट डिस्कनेक्शन, एप से मीटर की यूनिट को देखने सहित अन्य सुविधा मिलेगी। जानकारी के अनुसार इंदौर में लगे स्मार्ट मीटर का प्रयोग सफल रहा है। इससे बिजली चोरी रोकने में बहुत मदद मिली है। अधीक्षण यंत्री गाठे ने बताया कि स्मार्ट मीटर से उपभोक्ताओं को सटीक बिजली बिल मिलेंगे। मीटर रीडर नहीं आने या ज्यादा रीडिंग लेने और बिल ज्यादा आने की परेशानी भी दूर होगी। मीटरों में छेड़छाड़ भी नहीं हो सकेगी। कोई छेड़छाड़ करेगा, तो डीसीयू के जरिये बिजली कंपनी को इसकी तुरंत जानकारी मिल जाएगी। स्मार्ट मीटर लगने के बाद शहर में लाइन लॉस में भी कमी आएगी। कंपनी द्वारा गुणवत्ता पूर्ण विद्युत आपूर्ति के लिए 26 नए ट्रांसफॉर्मर लगाए गए हैं, जिससे वोल्टेज की समस्या दूर हुई है। साथ ही 25 ट्रांसफॉर्मरों की क्षमता में वृद्धि और 43 स्थापना का नवीनीकरण किया गया। है। इसके अतिरिक्त जर्जर विद्युत तारों के स्थान पर 30 किमी केबल लगाई जा रही है।

शहरी क्षेत्र में अक्टूबर से पूराने मीटरों की जगह नए स्मार्ट मीटर लगाने का कार्य शुरू होगा। इन मीटरों के लगने से कंपनी के साथ उपभोक्ताओं को भी फायदा होगा। मीटर रीडिंग और बिल संबंधित समस्याओं का समाधन हो जाएगा। इस प्रोजेक्ट के तहत खरगोन सहित पांच बड़े शहरों का शासन और कंपनी स्तर पर चयन हुआ है।

- डीके गाठे, अधीक्षण यंत्री, विद्युत वितरण कंपनी, खरगोन

19केएचआर-01- खरगोन शहर में जल्द ही विद्युत वितरण कंपनी स्मार्ट मीटर लगाएगी।

Posted By:

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

ipl 2020
ipl 2020