महेश्वर (खरगोन)। अहिल्या घाट पर 11 नवंबर से तीन दिनी निमाड़ उत्सव की शुरुआत होगी। संस्कृति मंत्री डॉ. विजयलक्ष्मी साधौ शुभारंभ करेंगी। उत्सव न सिर्फ प्रदेश की पारंपरिक प्रदर्शनकारी कलाओं व साहित्य से सरोबार होगा, बल्कि काव्य रचनाओं से भी निमाड़ की धरा आलौकिक होगी। पद्मश्री अशोक चक्रधर कवि सम्मेलन में शिरकत करेंगे। पहली बार विदेशी नृत्यशैली भी उत्सव में देखने को मिलेगी। आयोजन आदिवासी लोक कला और बोली विकास अकादमी मध्यप्रदेश संस्कृति परिषद भोपाल व जिला प्रशासन खरगोन द्वारा किया जा रहा है।

पहले दिन होशंगाबाद के प्रशांत दुबे साथी कलाकारों के साथ आरती व शंख ध्वनि की प्रस्तुति देंगे। इसके बाद असम के गुरु मरामी मेधी साथी कलाकारों के साथ कथक नृत्य व असमिया लोक समूह नृत्य प्रस्तुत करेंगे,वहीं कवि सम्मलेन भी होगा। दूसरे दिन इंदौर के मयंक सिकरवार अपने साथी कलाकरों के साथ आरती व नर्मदाष्टक प्रस्तुत करेंगे। नृत्योत्सव अंतर्गत मध्यप्रदेश, मणिपुर, मिजोरम, महाराष्ट्र, छत्तीसगढ़ और तेलंगाना के जनजातीय नृत्यों की प्रस्तुतियां होंगी।

इजिप्ट का तनौरा नृत्य भी आकर्षण का केंद्र रहेगा। समापन अवसर पर 13 नवंबर को इंदौर के मयंक सिकरवार अपने साथी कलाकारों के साथ आरती व नर्मदाष्टक की प्रस्तुति देंगे। इंदौर की डालिया दत्ता ओडिसी समूह नृत्य प्रस्तुत करेंगी। अंत में मुंबई के पार्श्व गायक जावेद अली सुगम संगीत की प्रस्तुति देंगे। सभी कार्यक्रम शाम 6.30 बजे से प्रारंभ होंगे।

स्पर्धाएं भी होंगी

निमाड़ उत्सव के दौरान स्पर्धाएं भी होंगी। 11 नवंबर को अहिल्या घाट पर दोपहर तीन बजे नौका सज्जा, 12 नवंबर को प्रात: 9 बजे शासकीय उत्कृष्ट उमावि में कबड्डी स्पर्धा व दोपहर 1 बजे से अहिल्या घाट पर नौका दौड़, 13 नवंबर को शासकीय उत्कृष्ट उमावि में प्रात: 10 बजे से कुश्ती स्पर्धा होगी। जिला शिक्षा अधिकारी केके डोंगरे ने बताया कि विद्यालय-संगठन की टीम का पंजीयन 11 नवंबर को शाम पांच बजे तक विकासखंड शिक्षा अधिकारी कार्यालय महेश्वर व खेल युवक कल्याण विभाग खंड महेश्वर में पंजीयन करवा सकते हैं।

कलेक्टर ने तैयारियों का लिया जायजा

निमाड़ उत्सव की तैयारियों को लेकर कलेक्टर गोपालचंद्र डाड ने रविवार को कार्यक्रम स्थल का निरीक्षण किया। उन्होंने नप सीएमओ राजेंद्र मिश्रा को तीन दिनों तक निरंतर साफ-सफाई रखने के निर्देश दिए। डाड ने कहा कि उत्सव के दौरान आने वाले दर्शकों और अतिथियों के लिए शौच की बेहतर व्यवस्था रहें। आसपास गंदगी न फैसले, इस बात का विशेष ध्यान रखा जाए। सुरक्षा की दृष्टि से नर्मदा तट पर बेरीगेड्स लगाने के निर्देश भी दिए, ताकि किसी अप्रिय घटना से बचा जा सके। निरीक्षण के दौरान पुलिस अधीक्षक सुनील पांडेय, एसडीएम आनंद राजावत, कार्यक्रम समन्वयक नीरज अमझरे व निर्मला कुशवाह उपस्थित रही।

अमरकंटक के मंदिरों का रूप होगा मंच पर

मां नर्मदा के उद्गम स्थल अमरकंटक में स्थित प्राचीन मंदिरों की भांति इस बार निमाड़ उत्सव का मंच दिखाई देगा। संस्कृति विभाग द्वारा विशेष रूप से यह स्वरूप निखारने का कार्य किया जा रहा है। इन मंदिरों का स्वरूप मंच पर मां नर्मदा महेश्वर और मां अहिल्या किले के आंगन में अद्भुत नजारा होगा।

Asian Shooting Championship: मध्यप्रदेश के ऐश्वर्य प्रताप ने भारत को दिलाया ओलिंपिक कोटा

Posted By: Hemant Upadhyay