नपा की कार्रवाई से गुस्साए व्यापारियों ने लगाया आरोप

सतीश इंगले

सनावद। नईदुनिया

नगरीय प्रशासन विभाग के पीएस संजय दुबे ने आदेश जारी कर 50 माइक्रोन से अधिक की पॉलीथिन पर कार्रवाई करने को गलत बताया है। इसके बाद से नगर पालिका द्वारा 2 अक्टूबर को शहर में प्लास्टिक सेंटर और कोल्ड ड्रिंक्स दुकानों पर की गई कार्रवाई विवाद में आ गई है।

दुकान संचालक भारत राठौर ने बताया नगर पालिका द्वारा 2 अक्टूबर को अमानक पॉलीथिन को लेकर कार्रवाई की गई थी। इस दौरान मैं शहर से बाहर था। दुकान पर मेरी मां, पत्नी व बालक थे। नपा के कर्मचारियों ने दुकान से सभी डिस्पोजल जब्त कर लिए। काउंटर पर पैर रखकर पूरी दुकान में उथल-पुथल मचा दी। मेरी पत्नी व मां ने मेरे आने पर कार्रवाई करने की बात भी कही लेकिन नगर पालिका के कर्मचारी व अफसर नहीं माने। इस कार्रवाई में करीब 20 हजार रुपए के डिस्पोजल नपा के कर्मचारी ले गए, जो जब्ती के आदेश से बाहर हैं। इसके बाद भी कार्रवाई की। जानकारी के अनुसार ये सभी डिस्पोजल कर्मचारी अपने घर ले गए। जब्त सामान की न तो रसीद दी गई, न संख्या बताई गई है। घटना के बाद से मेरी मां की तबीयत खराब है। पूरा परिवार मानसिक रूप से परेशान है। एसोसिएशन के पदाधिकारियों का मार्गदर्शन लेकर कार्रवाई की प्रक्रिया की जा रही है।

यह था मामला

2 अक्टूबर को शाम 5 बजे बाद नगर पालिका अधिकारी राकेश चौहान, स्वच्छता अधिकारी योगेंद्र गुप्ता सहित अन्य कर्मचारियों ने आठ संस्थानों पर हजारों रुपए की पॉलीथिन, डिस्पोजल व 200 ग्राम से ऊपर कोल्ड ड्रिंक्स की बोतलें बरामद की गई थी। बरामद सामग्री की रसीदें भी दुकानदारों को नहीं दी गई थी। श्रीहरि कृष्ण प्लास्टिक सेंटर से तकरीबन 20 हजार मूल्य की डिस्पोजल सामग्री भी जब्त की गई थी। 4 अक्टूबर के बाद नगर पालिका द्वारा उन्हें छोड़कर अन्य प्लास्टिक सेंटरों संचालकों को बुलाया जाकर बरामद सामग्री को लौटा दिया। वहीं कोल्ड ड्रिंक्स व अन्य खाद्य सामग्री नहीं दी गई। इससे व्यापारियों को नुकसान हुआ है।

50 माइक्रोन तक की पॉलीथिन प्रतिबंधित

प्रमुख सचिव नगरीय विकास व आवास संजय दुबे ने एक आदेश जारी किया है। इसमें कलेक्टर व नगर पालिका अधिकारियों को निर्देशित किया है कि सिंगल यूज प्लास्टिक के उपयोग को कम करने के लिए जागरूकता अभियान चलाया जाए। आम जनता को इसका उपयोग कम करने के लिए प्रेरित किया जाए। उन्होंने कहा है कि अपशिष्ट प्लास्टिक नियम 2016 के नियम के अंतर्गत 50 माइक्रोन से पतली पॉलीथिन के विरुद्ध प्रतिबंधित कार्रवाई के प्रावधान है। प्रमुख सचिव ने कहा है कि कुछ नगरीय निकायों में सिंगल यूज डिस्पोजल सामग्री व सभी प्रकार के 50 माइक्रोन से अधिक मोटी प्लास्टिक के विक्रेताओं व उत्पादकों के विरुद्ध कार्रवाई की जा रही है जो अनुचित है। उन्होंने कहा है कि प्लास्टिक अपशिष्ट के विरुद्ध जन जागरूकता के माध्यम से इसके उपयोग को कम करना ही अभियान का मुख्य उद्देश्य है।

बंद कर दी है कार्रवाई

शासन के निर्देश पर कार्रवाई की गई थी। वर्तमान में कार्रवाई बंद कर दी गई है। सभी को जब्त की गई सामग्री लौटा दी गई है। संबंधित व्यापार के डिस्पोजल कहा है। इसका पता लगाकर उन्हें भी लौटा दिया जाएगा।

-राकेश चौहान, सीएमओ नगर पालिका सनावद

-12केजीएन-172-सनावद में नगर पालिका के अधिकारियों ने गत दिनों प्लास्टिक पर कार्रवाई की थी। -फाइल फोटो