बड़वाह। नईदुनिया न्यूज

मप्र पश्चिम क्षेत्र विद्युत वितरण कंपनी अंतर्गत कार्यरत आउटसोर्स कर्मचारी विभिन्न मांगों को लेकर 21 नवंबर से कामबंद हड़ताल पर जाएंगे। मप्र विद्युत कर्मचारी जनता यूनियन के क्षेत्रीय सचिव केएन शर्मा ने बताया कि बिजली कंपनी के ठेके पर रखे गए आउटसोर्स कर्मचारी ठेका कंपनी एटूजेड की कार्य प्रणाली से असंतुष्ट हैं। कर्मचारियों को तीन माह से वेतन नहीं मिला। वेतन भुगतान में अत्यधिक विलंब किया जाता है। ऐसी स्थिति में कर्मचारियों को आर्थिक परेशानी आ रही है। वहीं जीवनयापन करने में भी दिक्कतें आ रही हैं। उन्होंने कहा कि कंपनी द्वारा लघु वेतन दिया जाता है, जबकि समान कार्य समान वेतन की प्रणाली लागू की जाना चाहिए। कर्मचारियों का न्यूनतम वेतन 21 हजार मासिक होना चाहिए। कर्मचारियों का ठेका कंपनी द्वारा दस लाख का बीमा कराया जाना चाहिए। वहीं अवकाश की पात्रता भी सुनिश्चित करें। शर्मा ने बताया कि जब तक मांगें नहीं मानी जाएंगी, हड़ताल जारी रहेगी। कर्मचारी राहुल खेड़े, प्रवीण विश्वकर्मा, रूपेश मुसले, विशाल बिल्लौरे ने कर्मचारियों से हड़ताल में शामिल होने का आग्रह किया है।

खाद का पर्याप्त स्टॉक रखें, प्रतिबंधित कंपनी की सामग्री न बांटें

नांद्रा। नईदुनिया न्यूज

आदिम जाति सेवा सहकारी संस्था धरगांव के रासायनिक खाद वितरण उपकेंद्र का मंगलवार को जिला सहकारी केंद्रीय बैंक नांद्रा के सुपरवाइजर हरिदयाल पाटीदार ने निरीक्षण किया। इस दौरान उन्होंने केंद्र पर रासायनिक खाद के स्टॉक रजिस्टर में दर्ज बोरों का सत्यापन किया। रजिस्टर अनुसार स्टॉक सही पाया गया। पाटीदार ने वितरण केंद्र प्रभारी को निर्देश दिए कि वर्तमान में किसानों को रबी फसल की बुआई के लिए सभी तरह की खाद की आवश्यकता रहती है। इसलिए केंद्र पर सभी तरह की खाद का पर्याप्त स्टॉक रखें। राज्य सरकार द्वारा चलाए जा रहे शुद्ध पर युद्ध अभियान के तहत किसी भी प्रतिबंधित कंपनी का खाद किसानों को वितरित नहीं करें। निरीक्षण के दौरान समिति प्रबंधक दुर्गेश यादव, खाद वितरण केंद्र प्रभारी उदय सिंह पटेल, गोदाम कीपर कैलाश सिंह मंडलोई, कृषक नरेंद्र बाबा, ओमप्रकाश आर्य, ग्रामीण कृषि विस्तार अधिकारी दीपक आर्य पाटीदार आदि मौजूद थे।

19केजीएन 158 आदिम जाति सेवा सहकारी संस्था धरगांव के रासायनिक खाद वितरण उपकेंद्र का निरीक्षण करते सुपरवाइजर हरिदयाल पाटीदार। -नईदुनिया

Posted By: Nai Dunia News Network