नैनपुर (नईदुनिया न्यूज)। गरीबों के निवाले पर डाका डाल कर करोड़पति बने जायसवाल बंधु की मुश्किलें कम होने का नाम नहीं ले रही हैं। ईओडब्ल्यू ने छापामार कार्रवाई के अकूत संपत्ति बरामद की है। जायसवाल बंधुओं के पास कुल कितनी संपत्ति मिली है, इसका आकलन किया जा रहा है। ईओडब्ल्यू से जु़ड़े अधिकारियों की मानें तो जल्द ही पूरे संपत्ति की कीमत का आकलन कर मामले का चालान न्यायालय में प्रस्तुत किया जाएगा।

हुई थी कार्रवाई

गत एक अक्टूबर को राजू जायसवाल निवासी वार्ड क्रमांक 4 एवं गणेश जायसवाल वार्ड क्रमांक 9 के खिलाफ आय से ज्यादा संपत्ति अर्जित की गई, जिस का मामला दर्ज किया गया और आर्थिक अपराध प्रकोष्ठ जबलपुर के द्वारा एक अक्टूबर को न्यायालय से वारंट प्राप्त कर दोनों के निवास स्थान एवं गोदाम दुकानों में दो टीम के द्वारा रेड डाली गई। ईओडब्ल्यू टीम के द्वारा रेड में चल अचल संपत्ति कैश जेवर, चार पहिया वाहन, दो पहिए वाहन, जेसीबी मशीन और कैश इतना अधिक मात्रा में मिला कि वह भी आश्चर्यचकित हो गए। सुबह 5 बजे की रेड रात 11ः00 बजे तक चलती रही। आखिर में टीम को दोनों व्यक्ति के 14 बैंक अकाउंट पोस्ट आफिस रिकरिंग के अलावा अन्य बैंक के दस्तावेजों लाकर को सीज करना पड़ा, जिनकी अभी जांच चल रही है, जिसके गणना की कार्रवाई अभी होनी शेष है।

अर्जित की संपत्ति

राजू जायसवाल व गणेश जयसवाल के द्वारा विगत 20 वर्षों से निजी समिति, साईं कृपा ग्रामीण उपभोक्ता भंडार, साईं कृपा शहरी उपभोक्ता भंडार, प्रियदर्शनी उपभोक्ता भंडार एवं विपणन सहकारी समिति के माध्यम से नगर एवं ग्रामीण क्षेत्र की 21 राशन दुकान जिला खाद्य अधिकारी से सांठगांठ करके आवंटित कराई गई थी, जिसे इन दोनों व्यक्ति के द्वारा चलाई जा रही थी और ब़ड़ी मात्रा में कालाबाजारी कर काला धन एकत्र किया गया था। दोनों व्यक्ति के द्वारा अपनी पत्नी एवं बच्चों के नाम पर भी अकूत संपत्ति अर्जित की गई जिस पर ईओडब्ल्यू के द्वारा समिति प्रबंधक राजू जायसवाल और उनकी पत्नी संगीता जायसवाल के विरुद्ध धारा 13 1 बी, 13 (2) , 1986 संशोधित अधिनियम 2018 और 120 बी, 109 भारतीय दंड विधान पंजीबद्घ कर विवेचना में लिया गया है।

वही समिति प्रबंधक गणेश जायसवाल और उनकी पत्नी अनिता जायसवाल के विरुद्ध 1986 संशोधित अधिनियम 2018 एवं 120बी, धारा 109 पंजीबद्ध कर विवेचना में लिया गया है। दोनों ही व्यक्ति एवं उनकी पत्नियों को मुचलके में जमानत दे दी गई है एवं दस दिनों तक जवाब पेश एवं सबूतों के साथ छे़ड़छा़ड़ ना करने हिदायत दी गई है।

ईओडब्ल्यू ने जब्त की संपत्ति

दोनों व्यक्ति राजू जायसवाल एवं गणेश जयसवाल के निवास स्थान एवं दुकानों से लगभग 13 लाख रुपये नगद, 500 ग्राम सोना एवं 2 किलो चांदी बरामद की गई है एवं 15 रजिस्ट्री, तीन दुकान जो कि लोहा सीमेंट रंग पेंट बनाने की मशीन जिसमें रखा सामान लगभग 4 करो़ड़ रुपये के आसपास का है। 5 चार पहिया पिकअप वाहन, चार पहिया मराजो, 5 मोटरसाइकिल 4 एक्टिवा वाहन, जेसीबी मशीन बरामद किए गए। एवं सभी बैंक खाते लाकर को सीज किया गया।

20 से 25 वर्ष पहले थे दैनिक कर्मचारी

लगभग 20 से 25 वर्ष पहले राजू जायसवाल शासन द्वारा संचालित लेमप्स की राशन दुकान में दैनिक वेतन भोगी के अंतर्गत कार्य करता था, वहीं से वह समिति अपनी स्थापित की गई। राशन दुकान आवंटन करा कर संचालित करने लगा उसके बाद उसने अपने छोटे भाई गणेश जायसवाल को भी इस कार्य में उतारा और दोनों के द्वारा धीरे-धीरे करके समितियां बनाकर राशन दुकानें आवंटन करा कर कालाबाजारी कर अपूत संपत्ति एकत्र की गई और कुछ ही दिनों में नैनपुर में करो़ड़पति के रूप में निखर के आए।

खाद विभाग का मिलता रहा संरक्षण

जानकारी अनुसार जिला खाद्य अधिकारी व खाद आपूर्ति अधिकारी का इन दोनों पर खुला संरक्षण लगातार रहा। जिस कारण यह लोग कुछ ही वर्षों में करो़ड़ों की संपत्ति के मालिक बन गए। वहीं सरकार लाकडाउन के दौरान गरीब जनता को निश्शुल्क राशन उनके घर तक पहुंचाने का प्रयास कर रही थी। पर यह व्यक्तियों के द्वारा उनके राशन पर डाका डाल ऊंचे दामों में नागपुर जबलपुर ट्रकों से खाद्यान्न बेचा करते थे। यह जानकारी अनेकों बार नगर के लोगों के द्वारा खाद अधिकारियों को अवगत भी कराया गया पर अधिकारी कार्रवाई के नाम पर उगाही करते रहे।

जितना सोचा नहीं था उससे अधिक मिली संपत्ति

मनजीत सिंह डीएसपी आर्थिक अपराध प्रकोष्ठ जबलपुर के द्वारा बताया गया कि राजू जायसवाल एवं गणेश जायसवाल दोनों समिति प्रबंधक के पास से आय से ज्यादा की संपत्ति अर्जित की गई है। नगद राशि जेवर प्लाटों की रजिस्ट्री मकान गोदाम दो पहिया चार पहिया वाहन खेत के अलावा तीन दुकान जिनमें चार करो़ड़ के आसपास का सीमेंट लोहा पेंट बनाने की मशीन पाई गई है। इन सब प्रॉपर्टी का सर्वेयर के द्वारा वैल्यूएशन कराया जा रहा है। लगभग एक माह का समय लग जाएगा दोनों व्यक्ति की संपत्ति की राशि आकलन करने में। अभी फिलहाल दुकान में रखे सामानों की लिस्ट बना ली गई है एवं बैंक लाकर बैंक खाते एफडीआर रेकरिंग खाते सब सीज कर दिया गया है। यह भी देखा जा रहा है कि निवारी ईटका एवं खेरमाई मंदिर के पीछे तीनों दुकान की व्यापार शुरुआत की तब इन्वेस्टमेंट कहां से आया। तीनों दुकानों में लगभग करो़ड़ रुपये का सामान है। जब आप कमाने की शुरुआत की तब यह पैसा कहां से आया यह जांच का विषय है।

एक माह में पूरी संपत्ति का करेंगे आकलन

आर्थिक अपराध प्रकोष्ठ जबलपुर में राजू जायसवाल गणेश जायसवाल के ऊपर अपराध कायम किया गया था कि इन दोनों व्यक्ति के द्वारा आज से ज्यादा संपत्ति अर्जित की गई है, उसी के आधार पर रेड डाली गई दोनों व्यक्ति के पास आय से ज्यादा एवं अपूत संपत्ति पाई गई है। करीब एक माह के अंतर्गत पूरी संपत्ति का आकलन हो जाएगा।-मनजीत सिंह, डीएसपी, ईओडब्ल्यू जबलपुर।

Posted By: Nai Dunia News Network

NaiDunia Local
NaiDunia Local
  • Font Size
  • Close