मंडला, नईदुनिया प्रतिनिधि। वर्तमान समय में रिश्ते नाते अब पहले की तरह मजबूत नहीं रह गए हैं। पैसा सबसे बड़ी वजह है। इसके चलते विवाद होते हैं और स्थिति मारपीट तक पहुंच जाती है। कभी-कभी तो मौत तक हो जाती है। ऐसी ही घटना महाराजपुर थाना क्षेत्र के कोटा सांगवा गांव में बुधवार की सुबह 4 बजे के लगभग देखने को मिली। जहां एक दादा ने अपनी पोती की हत्या कुल्हाड़ी मारकर कर दी। विवाद केवल यह था कि दादा के संदूक से पोती रुपये निकाल लिया करती थी। जो दादा को बर्दाश्त नहीं हुआ और उसने पोती को कुल्हाड़ी से वार कर मौत की नींद सुला दिया।

यह है पूरा मामला : थाना प्रभारी महाराजपुर रामेश्वर ठाकुर ने बताया कि ग्राम कोटा सांगवा गांव से डायल 100 को सूचना मिली कि प्रियंका परते पिता कृष्णा परते 20 वर्ष की हत्या कर दी गई है। सूचना पर जब डायल 100 पहुंची। तो जानकारी मिली कि उसके दादा पुशू परते 60 वर्ष के द्वारा इस हत्या को अंजाम दिया गया है। थाना प्रभारी ने बताया कि पूछताछ में यह बात सामने आई कि आरोपित दादा पुशु परते को वृद्धावस्था पेंशन और किसान सम्मान निधि की राशि कोविड काल में मिली थी। करीब 92 हजार रुपये की राशि थी। जिसे वह अपने संदूक में रखता था। उसकी 20 वर्षीय पोती प्रियंका परते उसके संदूक में रखे रुपये निकाल लेती थी। दादा ने करीब 92 हजार रुपये नकद जमा कर रखे थे। जिसमें से मृतका प्रियंका ने 30 हजार रुपये के लगभग निकाल लिए थे। वहीं वह घर से बाहर अधिक घूमती रहती थी। इसी बात को लेकर दादा और पोती में 7 जुलाई की सुबह विवाद हुआ। विवाद के दौरान गुस्सा में दादा ने कुल्हाड़ी से उसके सिर, चेहरे में तीन वार कर गंभीर रूप से घायल कर दिया। जिससे उसकी मौके पर ही मौत हो गई। पुलिस ने आरोपित दादा के खिलाफ धारा 302 के तहत मामला कायम कर लिया है। दादा घटना के बाद से फरार है। लेकिन पुलिस का कहना है कि उसे जल्द ही पकड़ लिया जाएगा।

Posted By: Brajesh Shukla

NaiDunia Local
NaiDunia Local