मंडला (नईदुनिया न्यूज)। शासकीय आईटीआई रसैइयादोना मंडला में 4 एवं 5 मार्च को सुबह 10.30 बजे से 4.00 बजे तक दो दिवसीय औद्योगिक प्ररेणात्मक शिविर का आयोजन एमएसएमई विकास संस्था इंदौर द्वारा किया गया। इस आयोजन में आईटीआई के प्रशिक्षणार्थियों को एमएसएमई के ज्वाइंट डायरेक्टर डीसी साहू द्वारा कार्यक्रम के उद्देश्य को बताया गया। अमित कुमार केसरी एलडीएम मंडला द्वारा बैंकों से ऋण लेने की प्रक्रिया को सरलता पूर्वक समझाया गया। अजय बरोनिया डायरेक्टर आर सेटी मंडला ने उनके संस्था में संचालित योजनाओं से लाभान्वित होने हेतु मार्गदर्शन किया। आरके परोहा प्राचार्य पॉलिटेक्निक कॉलेज मंडला ने जीवन में सफल उद्यमी बनने के गुण सुझाव, पंकज कुमार सीनियर ट्रेनर जबलपुर ने प्रशिक्षणार्थियों को जीवन के लक्ष्‌य को प्राप्त करने के लिए सतत प्रयास करने के सुझाव दिए। कार्यक्रम का संचालन गौरव गोयल असिस्टेंट डायरेक्टर एमएसएमई इंदौर द्वारा किया गया एवं कार्यक्रम को सफल बनाने में आईटीआई प्राचार्य आरएस वरकडे, वैषाली कामडे टीईओ, हितेन्द्र तुमराम प्रशिक्षण अधिकारी एवं आनंद मरावी टीपीओ ने सफल बनाया। भविष्य में रोजगार एवं स्वरोजगार उन्मूलन कार्यक्रम किए जाएंगे।

आर्थिक सहायता स्वीकृत

मंडला (नईदुनिया प्रतिनिधि)। पानी में डूबने से मृत्यु हो जाने पर अनुविभागीय दण्डाधिकारी मंडला द्वारा मृतक के परिजनों को कुल 4 लाख रूपये की आर्थिक सहायता स्वीकृत की गई है। जानकारी के अनुसार ग्राम मवईजर निवासी सुशील कुमार की पानी में डूबने से मृत्यु हो गई थी। अनुविभागीय अधिकारी राजस्व मंडला द्वारा मृतक के निकटतम वारसान के रूप में आवेदक राजकुमार पिता बसोरी लाल चीचाम निवासी ग्राम मवईजर को कुल 4 लाख रूपये की आर्थिक सहायता स्वीकृत की गई है। यह राशि संबंधित के बैंक खाते में जमा कराने के निर्देश दिए गए हैं।

केंद्र सरकार की गाइड लाइन का किया जाए पालन

मंडला (नईदुनिया प्रतिनिधि)। ग्राम पंचायतों में मनरेगा व अन्य योजनाओं की सोशल ऑडिट के पूर्व की तैयारी नहीं कराने की वजह से ग्राम पंचायत के सरपंचए सचिवों व रोजगार सहायकों को परेशानियों का सामना करना पड़ता है।

ऑडिट के दौरान कई तरह की खामियां उजागर होती हैं जिन्हें दूर करने का परिणामकारी प्रयास सोशल ऑडिट के पूर्व ही शासन प्रशासन के माध्यम से किया जाना चाहिए। सीधे सोशल ऑडिट की प्रक्रिया शुरू की जाती है जबकि अनेक नागरिकों के अनुसार सभी तरह की तैयारी सोशल ऑडिट के पूर्व ग्राम पंचायतों में कराई जाए तो गड़बडिय़ों पर रोक लगेगी और सोशल ऑडिट की सार्थकता भी पूरी होगी।

समाज के द्वारा किया गया ऑडिट दण्डित करने की जगह सुधार की मुख्य वजह होना चाहिए ऐसा लोगों का मानना है। सूत्रों से जानकारी मिली है कि ग्राम पंचायतों में सोशल ऑडिट होने वाली है इसकी पूर्व की तैयारी यदि शासन प्रशासन द्वारा नहीं कराई जा रही है तो ग्राम पंचायत के सरपंच, सचिव व रोजगार सहायक स्वयं जागरूक हों और स्वयं दस्तावेजों व अन्य तरह की तैयारी ठीक तरह से कर लें।

ऐसी जनापेक्षा है कि पूर्व में काम कर चुके महात्मा गांधी राज्य ग्रामीण प्रशिक्षण संस्थाना आधारताल जबलपुर मप्र से प्रशिक्षित ग्राम सामाजिक ऐनीमेटरों को उम्र की सीमा में छूट देकर अनुभव के आधार पर इस बार सोशल ऑडिट का काम दिया जाए इस संबंध में जनसुनवाई में भी आवेदन पत्र दिया गया है। लेकिन अभी तक ठीक तरह से सुनवाई पूरी नहीं हो पाई है। जनापेक्षा है सरकार सभी विषय पर ठीक तरह से ध्यान दें और मध्यप्रदेश के मण्डला जिले में केंद्र सरकार की गाइड लाइन के अंतर्गत सोशल ऑडिट की प्रक्रिया सही तरीके से पूरी करावें।

Posted By: Nai Dunia News Network

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

 
Show More Tags