डिंडौरी (नईदुनिया प्रतिनिधि)। आधार कार्ड में फर्जी पता के सहारे विवाह पंजीयन के लिए अपर कलेक्टर न्यायालय में आवेदन करने का मामला उजागर होने के बाद भी लंबे समय से जांच में अटककर रह गया है। इस पूरे खेल में सहयोगियों पर कार्रवाई न करने के आरोप लग रहे हैं। हिंदूवादी संगठन इस मामले में खुलकर सामने आ गए हैं। जबलपुर के गोहलपुर थाना में लड़की के परिजनों ने शिकायत भी इस मामले में दर्ज कराई है। जबलपुर में मामला तूल पकड़ने और लड़की के परिजनों द्वारा डिंडौरी आकर पुलिस अधीक्षक से मिलने के बाद आरोप प्रत्यारोप का दौर भी शुरू हो गया है। गौरतलब है कि विश्व हिंदू परिषद जिला इकाई डिंडौरी द्वारा सात सितंबर को इस मामले में कार्रवाई की मांग को लेकर पुलिस अधीक्षक को पत्र भी सौंपा गया था।

आधार कार्ड में शहपुरा का फर्जी पताः अपर कलेक्टर न्यायालय में विवाह के लिए लड़के ने अपना वर्तमान और स्थाई पता वार्ड क्रमांक तीन शहपुरा तहसील शहपुरा जिला डिंडौरी दिया था, जबकि लड़की ने वर्तमान पता वार्ड क्रमांक तीन शहपुरा डिंडौरी और स्थाई पता डी 50 गली नंबर एक झरौंदा माजरा बुरारी सुरेंदर बस्ती फर्ट आई झरौंदा माजरा उत्तरी दिल्ली-110084 उल्लेख था। जब विवाह पंजीयन के लिए दिए गए पते का सत्यापन कराया गया तो शहपुरा के इस पते में दोनों लड़का लड़की को कोई नहीं बता सका। तभी से इस मामले में आधार कार्ड में फर्जी पता बनवाने से लेकर आवेदन तक के खेल में शामिल लोगों की जांच कर कार्रवाई करने की मांग भाजपाइयों और विश्व हिंदू परिषद द्वारा की जा रही है।

पांच वर्ष के विवाह पंजीयन की हो जांचः विश्व हिंदू परिषद के जिलाध्यक्ष इंदीवर कटारे द्वारा एसपी को पूर्व में सौंपे गए ज्ञापन में यह मांग की गई थी कि पिछले पांच वर्ष में जिले में जो विवाह पंजीयन हुए हैं, उनके आवेदन पत्रों के साथ आधार कार्ड की जांच कराई जाए। आरोप लग रहे हैं कि आदिवासी बहुल जिले डिंडौरी में एक गिरोह सक्रिय है जो फर्जी पता के सहारे आधार कार्ड तैयार कराकर विवाह पंजीयन करा रहा है। भाजपा जिलाध्यक्ष नरेंद्र सिंह राजपूत द्वारा इस मामले में कड़ी कार्रवाई करने की मांग की गई है। गौरतलब है कि दो दिन पहले यह सामने आया कि दोनों लड़का लड़की जबलपुर के हैं। हिंदूवादी संगठनों द्वारा इस मामले को लेकर जबलपुर में भी विरोध जताया गया है। शहपुरा थाना प्रभारी की मानें तो जिले से पुलिस टीम जबलपुर गई है। दोनों लड़का लड़की एक अलग-अलग विशेष समुदाय के हैं, इसीलिए यह मामला गंभीर हो गया है।

वर्जन.......

मैरिज कोर्ट से विवाह आवेदन तो निरस्त हो गया है। जहां तक फर्जी पता के सहारे आधार कार्ड तैयार करने का मामला है तो हमारा प्रयास है कि पहले लड़का लड़की मिल जाएं। उनसे पूछताछ कर इस पूरे मामले में जो भी सहयोगी के तौर पर शामिल हैं उन पर भी कार्रवाई की जाएगी। दोनों की तलाश की जा रही है। इस मामले में थाना प्रभारी की रिपोर्ट आ गई है। एसडीओपी से भी जांच कराई जा रही है। दोषियों को बख्शा नहीं जाएगा।

अमित कुमार

पुलिस अधीक्षक डिंडौरी।

दोनों लड़का लड़की के मामले में जानकारी लगी है कि वे जबलपुर के ही हैं। शहपुरा थाना से भी पुलिस टीम इस मामले की जांच के लिए जबलपुर गई है। शहपुरा के वार्ड क्रमांक तीन में किरायानामा के आधार पर आधार कार्ड में पता युवक युवतियों का डाला गया था। इस मामले में तहसीलदार, पटवारी और नगर परिषद से भी सत्यापन कराकर रिपोर्ट भेज दी गई है कि इस पते पर लड़का लड़की नहीं रहते। आधार कार्ड की सत्यता को लेकर पत्र दिल्ली भेजा गया है। अभी वहां से रिपोर्ट नहीं आई है।

अखिलेश दाहिया

थाना प्रभारी शहपुरा।

लड़की दिल्ली से गायब हुई है। रहने वाले लड़का लड़की दोनों जरूर जबलपुर के हैं। लड़का गोहलपुर थाना क्षेत्र का है। लड़का लड़की की तलाश की जा रही है। दोनों के मिलने के बाद ही स्थिति स्पष्ट होगी। डिंडौरी पुलिस के बारे में जानकारी नहीं है।

अरविंद चौबे

थाना प्रभारी गोहलपुर जबलपुर।

Posted By: Nai Dunia News Network

NaiDunia Local
NaiDunia Local