मंदसौर (नईदुनिया प्रतिनिधि)। कोरोना की तीसरी लहर में मरीजों की संख्या धीरे-धीरे बढ़ रही हैं। शुक्रवार रात में आई रिपोर्ट में भी चार मरीज मिले थे इनमें एक गरोठ व एक घसोई का है। इसके अलावा 2 मंदसौर के ही हैं। तीसरी लहर में अभी तक कुल 31 मरीज मिल चुके हैं। संतोष की बात कही जा सकती है कि इसमें से अभी 16 ही सक्रिय है। और अस्पताल में भी दो ही भर्ती है। पर बाजारों में आ रहे लोगों खासकर महिलाओं की लापरवाही भी कम नहीं हो रही है। न तो मास्क लगाया जा रहा है और न ही दो गज की दूरी का पालन किया जा रहा है। कोविड 19 की रोकथाम एवं बचाव हेतु जारी किए गए निर्देशों के अनुसरण में जिले में कोविड संक्रमण को रोकने के लिए कलेक्ट र गौतमसिंह ने सार्वजनिक स्थलों पर मास्क का उपयोग अनिवार्य किया है। सार्वजनिक स्थलों पर किसी व्यक्ति की गतिविधियां बगैर मास्क के मिलने पर प्रति व्यक्ति 100 रुपये जुर्माना वसूला जाएगा।

बार-बार बदलते निर्देशों से आमजन एवं व्यापारी दुविधा में

सीतामऊ । बढ़ते कोरोना संक्रमण को लेकर शासन-प्रशासन प्रतिदिन दिशा-निर्देश बदल रहा है। इस वजह से आमजन एवं व्यापारी दुविधा की स्थिति में हैं। इसका असर लग्नसरा व अन्य मांगलिक आयोजनों पर हो रहा है। मांगलिक कार्यों का सिलसिला शनिवार से ही शुरू हुआ है। नगर सहित अंचल में जनवरी-फरवरी में कई आयोजनों की तिथि निर्धारित कर तैयारियां शुरू कर दी थी। विवाह से संबंधित सारे प्रबंध किए जा चुके हैं। अब तेजी से फैल रहे कोरोना संक्रमण के चलते शासन-प्रशासन ने भी सतर्क होकर बढ़ते संक्रमण की समीक्षा कर नए प्रतिबंधात्मक आदेश जारी कर दिए है। एक पखवाड़े में शासन ने दो-तीन बार गाइडलाइन भी बदल दी है। 14 जनवरी को शासन ने सख्त गाइडलाइन जारी की है जिसके तहत 31 जनवरी तक स्कूल बंद रहेंगे, विवाह आयोजनों में 250 लोग ही शामिल हो सकेंगे। अन्य कई निर्देश जारी हुए हैं शासन के इन निर्देशों के पालन हेतु जिला प्रशासन ने भी प्रतिबंधात्मक आदेश जारी कर दिए हैं। बदली परिस्थिति में आमजन से लेकर व्यापारी वर्ग दुविधा की स्थिति में हैं। विवाह आयोजन वाले परिवार कार्यक्रम सीमित करने पर विचार कर रहे हैं। जिनकी विवाह पत्रिका व कार्ड बट चुके हैं वह बेहद चिंतित व तनाव में दिख रहे हैं। कोरोना कहर ने सारे उत्साह को नष्ट कर दिया है। कोरोना का असर बाजार में भी दिखाई दे रहा है। व्यापारी वर्गों में भी भय व दहशत हैं। इन विषम परिस्थितियों में गरीब व मध्यमवर्गीय परिवारों के लोग सबसे ज्यादा परेशानी में हैं।

मास्क को अपना सुरक्षा उपकरण समझें

-मास्क हम सभी को कोरोना जैसी गंभीर बीमारियों के साथ ही प्रदूषण से भी बचाने का काम करता है। इसलिए मास्क को मजबूरी नहीं समझकर अपना सुरक्षा उपकरण समझे और इसका पालन करें।- निर्जला अहिरवार

-जब भी घर से निकले तो हम मास्क लगाकर ही निकलें। बाजार व भीड़ में जाते समय दूसरों को भी मास्क लगाने, दो गज दूरी का पालन करने के साथ ही बार-बार हाथ धोने तथा सैनिटाइज करने के लिए भी प्रेरित करें।-बिलाल मंसूरी

-कोरोना वायरस संक्रमण से बचने का एक ही उपाय है कि बाहर निकलते समय हमेशा मास्क लगाए रखें। दो गज की दूरी का पालन करते रहें। साफ-सफाई पर विशेष ध्यान दें। यदि हम नियमों का पालन करेंगे तो कोरोना के प्रभाव से बचे रहेंगे।-सत्यनारायण राठौर

-कोरोना का संक्रमण तेजी से फैल रहा है। हमे भीड़ वाली जगह पर जाने से बचना चाहिए। हमेशा मास्क पहनना चाहिए। जिन लोगों ने अभी वैक्सीन की दोनों डोज नहीं ली है वह सबसे पहले टीका लगवाएं। -प्रियांशी शर्मा

-शासन व प्रशासन जनता के हित में लगातार कोशिश कर रहे हैं। वह सभी को मास्क लगाने की अपील कर रहे हैं। आमजन को भी मास्क लगाकर अपना योगदान देना चाहिए।-अनिल अरोरा

-यह बात बिलकुल सही है कि मास्क लगाकर ही हम फिर अपने देश को पहले की तरह बना सकते हैं। लापरवाही हमारी जान पर ही भारी पड़ सकती है। सुरक्षित रहना है तो दो गज की दूरी के पालन के साथ ही मास्क लगाना भी जरूरी है।- शैलेंद्र सुर्वे

Posted By: Nai Dunia News Network

NaiDunia Local
NaiDunia Local