पिछड़ा वर्ग आयोग ने नपा क्षेत्र में माना 42 प्रतिशत मतदाता पिछड़ा वर्ग से

पंचायत व नगरीय निकाय चुनाव की हलचल तेज

मंदसौर (नईदुनिया प्रतिनिधि)। राज्य सरकार के साथ ही अब मंदसौर जिले में भी पंचायत चुनाव व नगरीय निकाय चुनावों की हलचल तेज हो गई है। भाजपा ने जिला स्तरीय बैठक कर चुनावी संग्राम में उतरने का एलान कर दिया है। इधर प्रतिशतासन भी 24 मई को नगरीय निकायों व 25 मई को त्रिस्तरीय पंचायत चुनावों हेतु वार्डों के आरक्षण की तैयारियों में जुटा हैं। इस बार पिछड़े वर्ग के आरक्षण को लेकर फंसे पेंच को लेकर सभी फूंक-फूंककर कदम रख रहे हैं। जो जानकारी मिल रही हैं उसके अनुसार मंदसौर नगर पालिका क्षेत्र में पिछड़ा वर्ग आयोग ने 42 प्रतिशत मतदाता पिछड़ा वर्ग के बताए हैं। इस लिहाज से यहां लगभग 35 प्रतिशत आरक्षण इस वर्ग को दिया जाएगा। इसी प्रकार अन्य नगरीय निकायों में इसी तरह होगा।

24 मई को मंदसौर नगर पालिका के 40 व गरोठ, भानपुरा, शामगढ़, सुवासरा, सीतामऊ, नारायणगढ़, मल्हा।रगढ़, नगरी व पिपलियामंडी के 15-15 वार्डों का आरक्षण होगा। इन सभी जगहों पर एक बार 2020 में आरक्षण हो चुका हैं। अब जो आरक्षण किया जाएगा, उसमें अजा-अजजा के लिए आरक्षित वार्ड यथावत रखे जाएंगे। उनको छोड़कर अनारक्षित व पिछड़ा वर्ग के वार्डों का ही नए सिरे से आरक्षण होगा। पिछड़ा वर्ग आयोग ने प्रत्ये्‌क नगरीय निकाय व ग्रापं स्तर पर पिछड़ा वर्ग के मतदाताओं के आकड़े जुटाए थे अब उसी आधार पर आरक्षण होगा। आबादी के आधार पर होने वाले आरक्षण में कई जगह पिछड़ा वर्ग के लिए ज्यादा सीटें भी हो सकती हैं तो कई जगह कम भी हो सकती हैं।

चार से पांच वार्ड बढ़ सकते हैं मंदसौर में पिछड़ा वर्ग के

मंदसौर नगर पालिका के लिए 2020 में हुए आरक्षण में पिछड़ा वर्ग के लिए 10 वार्ड आरक्षित हुए थे। अब नए सिरे से आरक्षण होने पर पिछड़ा वर्ग के लगभग चार से पांच वार्ड बढ़ जाएंगे। उसका आधार यह बताया जा रहा हैं कि मंदसौर नगर पालिका क्षेत्र में अजा व अजजा वर्ग की आबादी कम होने से महज पांच वार्ड ही इनके लिए आरक्षित हैं जो कुल वार्ड का लगभग 10 से 12 प्रतिशत हैं। सुप्रीम कोर्ट के आदेश पर आरक्षण 50 प्रतिशत तक हो सकता हैं। इस आधार पर यहां पिछड़ा वर्ग के लिए 35 प्रतिशत तक आरक्षण हो सकेगा। अभी पिछली आरक्षण प्रक्रिया में पिछड़ा वर्ग को 25 प्रतिशत आरक्षण दिया गया हैं। अब इसे बढ़ाकर 35 प्रतिशत तक करेंगे तो अनारक्षित व महिला के लिए आरक्षित वार्डों की संख्या पांच कम होकर पिछ़ड़े वर्ग के बढ़ जाएंगे।

Posted By: Nai Dunia News Network

NaiDunia Local
NaiDunia Local
  • Font Size
  • Close