मंदसौर(नईदुनिया प्रतिनिधि)। मंदसौर जिले में भी नईदुनिया के अभियान के तहत गुरुवार को लगभग 20 से अधिक बरगद के पौधे लगाए गए। कुछ जगह संगठनों ने अभी पानी की किल्लत के चलते बरसात शुरू होते ही बरगद के पौधे लगाने का संकल्पभ भी लिया। कलेक्टो रेट परिसर में कलेक्टर मनोज पुष्प ने बरगद के पांच पौधे लगाए। इस मौके पर उन्होंने कहा कि बरगद का पौधा जब पेड़ बनेगा तो यह दिनभर में 22 घंटे से अधिक समय तक आक्सीपजन ही उत्सर्जित करता है। अब जिले में यह अभियान और गति पकड़ेगा और आक्सीहजन उतसर्जन करने वाले पौधों की संख्या भी बढ़ाई जाएगी।

नईदुनिया के अभियान 'वटवृक्ष दे वरदान' के तहत गुरुवार को वट सावित्री अमावस्या के दिन विशेष तौर पर 20 से अधिक बरगद के पौधे लगाए गए। वहीं विभिन्ना सामाजिक संगठनों सहित जागरूक लोगों ने बरसात शुरू होने पर जिलेभर में बरगद के लगभग पांच हजार पौधे लगाने का संकल्प भी लिया। अभियान के तहत सबसे पहले गुरुवार को बायपास पर मुल्ताकनपुरा चौराहे पर स्थित पुलिस के नारकोटिक्स विंग कार्यालय पर एसपी सुनील तिवारी ने बड़ का पौधा लगाया। यहां उनके साथ ही विंग के स्टाफ ने भी पौधे को बड़ा होने तक उसके संरक्षण का संकल्प भी लिया। इसके बाद दोपहर में कलेक्टोरेट के परिसर में कलेक्टर मनोज पुष्प ने बड़ के चार पौधे लगाए। यहां इससे पहले वित्त मंत्री जगदीश देवड़ा, पर्यावरण मंत्री हरदीपसिंह डंग, सांसद सुधीर गुप्तास व विधायक यशपालसिंह सिसौदिया ने भी पौधारोपण किया। अब कलेक्टोरेट में ही एक ही ब्लाक में बड़ के लगभग 20 पौधे हो गए हैं जो कुछ ही वर्षों में पेड़ का रूप ले लेंगे। कलेक्ट र मनोज पुष्प ने कहा कि कोरोना महामारी के दौरान आक्सीजन का महत्व सभी को समझ आ ही गया है। बरगद, नीम व पीपल सहित कुछ अन्य प्रजातियों के पेड़ 22 से 24 घंटे तक प्राकृतिक आक्सीजन देते ही रहते हैं इसलिए इन प्रजातियों के पौधों को ज्यादा से ज्यादा लगाना है।

वरिष्ठों ने दिखाया युवाओं के समान जोश

रामटेकरी में सुदामा नगर के वरिष्ठव नागरिकों मोहनलाल शर्मा, लक्ष्‌मीनारायण देवड़ा, जगदीश शर्मा, दिनेश पोरवाल, संजय विजयवर्गीय, मनीष गर्ग, विपिन गर्ग सहित अन्य लोगों ने भी नईदुनिया के अभियान के तहत तेलिया तालाब बालाजी परिसर में बरगद के साथ ही नीम व पीपल की त्रिवेणी रोपी। और इनकी सुरक्षा के लिए ट्री गार्ड भी लगाया। अब प्रतिदिन यह लोग इसकी देखभाल भी करेंगे।

केंद्रीय विद्यालय में भी बनेगा सिटी लंग्स

केंद्रीय विद्यालय के शिक्षक आलोक पंजाबी ने बताया कि अब केंद्रीय विद्यालय परिसर को भी आक्सीजन हब व सिटी लंग्स के रूप में विकसित कर रहे हैं। इसकी शुरुआत यहां आक्सीजन उत्सकर्जित करने वाले पौधे लगाकर कर दी है। छायादार और चिकित्सकीय महत्व के पौधे लगाए जा रहे हैं। इसमें बरगद, नीम, आंवला, करंज और अर्जुन जैसे देशज पौधों का रोपण कर रहे हैं। प्राचार्य प्रियदर्शन गर्ग ने बताया कि कोरोना महामारी ने हमें यह चेतावनी दी है कि आक्सीजन की कमी से विकट स्थितियां पैदा हो सकती हैं, अतः जरूरी है कि हम पेड़ों को लगाएं भी और उनकी रक्षा भी करें। जीवनशैली के बदलाव और मशीनों पर निर्भरता ने आज हमारे वायुमंडल को प्रदूषित किया है। वातावरण को इस जहर से तभी मुक्त कर सकते हैं जब हम छायादार पेड़ों को अपने आसपास लगाएंगे। विद्यालय में वृक्षारोपण के साथ साथ बच्चों को भी अपने घर और कॉलोनी में पौधे लगाने के लिए निरंतर प्रेरित किया जा रहा है।

नईदुनिया नालेज

1. एक व्यस्क यानी पुराना पेड़ साइंटिफिक स्टडी के मुताबिक रोजाना 230 से 250 लीटर तक आक्सीजन देता है।

2. दुनियाभर में हुई रिसर्च के मुताबिक नए पेड़-पौधों से 24 घंटे में 10 लीटर तक आक्सीजन रिलीज होती है।

3. अगर एक पुराना पेड़ काट दिया गया तो बदले में 25 पौधे लगाना ही चाहिए।

पेड़ और प्राणवायु का गणित

मंदसौर के स्टेशन रोड, महू-नीमच राजमार्ग बड़े और पुराने पेड़ों से गुलजार हुआ करती थी। लेकिन अब यहां गिनती के पेड़ बच गए हैं। इसके अलावा हाल ही में नाला निर्माण के लिए भी पुलिस लाइन से लेकर जेल तक नीम के लगभग 10 बड़े पेड़ काटे गए हैं। इसके अलावा जहां हरियाली छाई हुई थी अब वही पेड़ों की संख्या बहुत कम रह गई है।

पीपल अकेला दिन में 22 घंटे आक्सीजन देता

विशेषज्ञों के अनुसार पीपल एकमात्र पेड़ हैं जो 22 घंटे तक आक्सीजन रिलीज करता है। जहां यह पेड़ रहता है वहां आसपास आक्सीजन की कमी नहीं होती है। पीपल रात में भी आक्सीजन देता है। नीम, बरगद, तुलसी के पेड़ भी पीपल की तरह 20 घंटे से ज्यादा समय आक्सीजन देते हैं।

Posted By: Nai Dunia News Network

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

NaiDunia Local
NaiDunia Local
 
Show More Tags