मंदसौर (नईदुनिया प्रतिनिधि)। लगभग 60 साल पहले बनकर तैयार हुए गांधीसागर बांध के बैकवाटर में अब जाकर जल पर्यटन की तैयारियां हो रही है। लगभग 65 वर्ग किमी झील में भरी अथाह जलराशि का उपयोग पर्यटन के लिए करने की योजना तैयार है। सब कुछ ठीक रहा तो एक माह में बैकवॉटर के एक छोर पर बसे संजीत से गांधीसागर के लिए क्रूज से यात्रा शुरू हो जाएगी जो रास्ते में किनारे पर मौजूद सभी प्रमुख स्थलों का भ्रमण भी कराएगी। जल्द ही मप्र पर्यटन विकास निगम की एक टीम और भी संभावनाएं तलाशेंग। इधर संजीत में बैकवॉटर के बीच बनी पुरानी कचहरी को संवारकर पर्यटन स्थल बनाने के लिए 34 लाख 24 हजार रुपये के निर्माण भी शुरू कर दिया है।

गांधीसागर जलाशय निर्माण में अविभाजित मंदसौर जिले ने काफी कुछ खोया है पर उस लिहाज से जिले को फायदा नहीं मिला। अब जाकर गांधीसागर जलाशय में जल पर्यटन की संभावनाएं तलाशी जा रही हैं। कलेक्टर मनोज पुष्प ने अभी पर्यटन विकास निगम के अधिकारियों से चर्चा की है और सब कुछ ठीक रहा तो एक माह में संजीत से गांधीसागर तक आने जाने के लिए क्रूज प्रारंभ हो जाएगा।

जल परिवहन बढ़ाने के साथ गांधीसागर की दूरी भी कम होगी

अभी सड़क मार्ग से मंदसौर जिला मुख्याीलय से गांधीसागर की दूरी लगभग 150 किमी है। संजीत क्षेत्र से यह दूरी और भी ज्यादा है जबकि मंदसौर से संजीत की दूरी 25 किमी है और यहां से जल मार्ग से गांधीसागर की अधिकतम दूरी 50 से 60 किमी होगी। गांधीसागर जलाशय के बैकवॉटर में क्रूज चलने से आस-पास के प्राकृतिक दृश्यों का तो आनंद मिलेगा ही, जिले की कई प्राचीन धरोहरों को भी लोग देख सकेंगे।

पुरानी कचहरी पर 1250 पौधे लगाएंगे, नक्षत्र गार्डन भी तैयार होगा

संजीत क्षेत्र में स्थित पुरानी कचहरी के टापू पर पहुंचने के लिए मनरेगा के माध्यम से संजीत की मुख्य सड़क से जोड़ा जा रहा है। यहां परिसर की सुरक्षा के लिए बाउंड्रीवाल और बाउंड्रीवाल के आगे पत्थरों की पिचिंगवाल भी बनाई जा रही है। मैदान का समतलीकरण कर इस टापू पर 1250 पौधे लगाए जा रहे हैं। इसके अलावा बच्चों के लिए झूले और नक्षत्र गार्डन तैयार किया जाएगा। टापू के पास ही बोट जेट्टी भी बनाया जाएगा।

24 लाख रुपये में बनेगी सूदूर सड़क

शुक्रवार को ही वित्त मंत्री जगदीश देवड़ा ने संजीत में पुरानी कचहरी क्षेत्र को पर्यटन स्थल विकसित करने के लिए 34 लाख 24 हजार के निर्माण कार्यों का भूमिपूजन किया। इसमें पुराने संजीत गाजी शाह दरगाह से पुरानी कचहरी तक 24 लाख रुपये में सुदूर सड़क बनेगी। इसके साथ ही 10 लाख 24 हजार रुपये में टापू के चारों तरफ बाउंड्रीवाल बनाई जाएगी। वित्त मंत्री ने कहा कि संजीत क्षेत्र में पर्यटन के विकास से क्षेत्र में आर्थिक विकास के नए आयाम मिलेंगे। संजीत में जो पर्यटन का हब तैयार किया जा रहा है। यह बहुत बड़ा प्रोजेक्ट है। आगे और बढ़ावा देने के लिए पर्यटन मंत्री को भी यहां बुलाएंगे। टापू पर्यटन केंद्र के रूप में विकसित होगा। पहले संजीत प्रशासनिक गतिविधियों का केंद्र था, वैसे ही अब पर्यटन का केंद्र बनेगा। जिला पंचायत अध्यक्ष प्रियंका मुकेश गिरी गोस्वामी ने कहा कि संजीत क्षेत्र में बन रही सुदूर सड़क निर्माण पर डामरीकरण भी होना चाहिए जिससे सड़क लंबे समय तक चल सके। यहां पर्यटन में स्थानीय लोगों को भी रोजगार प्रदान करें।

* संजीत क्षेत्र से गांधीसागर तक एक माह में क्रूज का आवागमन शुरू हो सकता है। इसके अलावा नए रूट के लिए भी परमिट जारी किए जाएंगे। नारायणगढ़ से गरोठ को जोड़ने के लिए भी कार्य किया जा रहा है। संजीत से स्टीमर चलेगा जो एलवी महादेव, रामपुरा, शंकुद्वार, बर्रामा मंदिर होते हुए गांधीसागर पहुंचेगा। यह जिले के लिए बहुत ही ऐतिहासिक पहल होगी।- मनोज पुष्प कलेक्टर

Posted By: Nai Dunia News Network

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

 
Show More Tags