मौसम की पहली झमाझम : तेलिया तालाब लबालब, शिवना में आया उफान

राहत की वर्षा से फसलों से लेकर जलस्त्रोतों में भी दिखने लगी राहत

कालाभाटा बांध के दो गेट खोले, शिवना का जलस्तर बढ़ा

मंदसौर (नईदुनिया प्रतिनिधि)। जिले से करीब 15 दिन से रुठा हुआ मानसून बुधवार रात से राहत की बूंदे बरसा रहा है। बुधवार रात में लगभग दो घंटे तक झमाझम बरसात हुई। वहीं गुरुवार सुबह भी आधे घंटे तक तेज बरसात हुई। अभी हो रही बरसात से पूरा जिला तरबतर हो रहा है। पानी मिलते ही खेतों में फसलें फिर लहलहाने लगी हैं। मंदसौर में चार घंटे में 79 मिमी बरसात दर्ज की गई है। इस तेज बरसात से कुछ घंटों में ही ड्रेनेज की पोल खुल गई है। इधर शिवना नदी के जलग्रहण क्षेत्रों में हुई बरसात से रात में जलस्तर बढ़ गया था। गुरुवार को भी पानी छोटी पुलिया के ऊपर बह रहा था। तेलिया तालाब भी लबालब होने के बाद झरना चालू हो गया है। शिवना नदी में उफान आने से नाहरगढ़-बिल्लौ द मार्ग दोपहर बाद तक बंद रहा। वहीं मंदसार में जनकूपुरा में पुराने जर्जर मकान का हिस्सा गिर गया। कालाभाटा बांध के दो गेट खोलने से श्री पशुपतिनाथ मंदिर के समीप की छोटी पुलिया, मुक्तिधाम के समीप की छोटी पुलिया जलमग्न हो गई। इसके अलावा जिले में कई नदी-नाले उफान पर रहे।

बुधवार की रात से गुरुवार सुबह तक जिलेभर में रुक-रुककर तेज वर्षा हुई। इस वर्षा से थमे हुए जलस्त्रोतों में बहाव शुरू हो गया है। मंदसौर में शिवना नदी उफान पर आ गई। जिससे नदी की छोटी पुलियाएं जलमग्न हो गई। तेलिया तालाब का जल स्तर भी बढ़ गया शाम तक तालाब का झरना चालू हो गया है। नदी-नालों में बहाव तेज होने से जिले के कई मार्गों पर आवाजाही प्रभावित हुई। नाहरगढ़-बिल्लौद मार्ग की पुलिया पर से भी शिवना नदी का पानी पहुंचने लगा। इसके कारण गुरुवार दोपहर में इस मार्ग पर आवाजाही प्रभावित रही। गुरुवार सुबह आठ बजे तक सर्वाधिक 87 मिमी वर्षा धुंधड़का क्षेत्र में हुई। मंदसौर व भावगढ़ में 73, सीतामऊ में 78, कयामपुर में 50 मिमी वर्षा हुई। वहीं सबसे कम वर्षा भानपुरा में आठ व संजीत में महज 10 मिमी वर्षा ही दर्ज हुई है। गुरूवार को भी जिले में कहीं तेज कहीं रिमझिम वर्षा का दौर जारी रहा।

सड़कें तालाब बन गईं, दुकानों में घुसा पानी

शहर में कुछ देर की तेज वर्षा से ही सड़के तालाब बन गई। नगर पालिका की सारी तैयारी धरी की धरी रह गई। बुधवार रात में तेज वर्षा के दौरान धानमंडी, शुक्लास चौक, गांधी चौराहा, नयापुरा, बालागंज, सम्राट मार्केट, गांधी चौराहा क्षेत्र में पानी भर गया। वहीं संजय गांधी स्टेडियम मार्केट में भी पानी एकत्र होकर दुकानों में घुस गया। इस कारण व्यापारियों को नुकसान हुआ है। जबकि नगरपालिका वर्षा ऋतु आगमन से पहले तैयारी भी करती है। इसके बावजूद कुछ देर की तेज वर्षा के पानी की भी नहीं निकासी नहीं हो रही है। इस दौरान आवाजाही में लोगों को बहुत परेशानियां हुई।

जनकूपुरा में जर्जर मकान का हिस्सा गिरा

दो दिन से लगातार हो रही वर्षा से शहर में खतरनाक मकानों के आसपास रहने वाले लोगों की परेशानियां बढ़ गई है। वर्षा से जनकूपुरा पारख गली में एक जर्जर मकान का बड़ा हिस्सा बुधवार, गुरुवार रात में भरभराकर गिर गया। लंबे समय से जर्जर पड़े इस मकान से खतरे को देखते हुए कई बार लोगों ने नपा में शिकायत भी की है। इसके बावजूद नपा के अधिकारी ध्यान देने को तैयार नहीं है। जिम्मेदार अधिकारियों की लापरवाही का ही कारण रहा रात में खतरनाक मकान का हिस्सा वर्षा से गिर गया। गनीमत रही मकान का हिस्सा रात में गिरा। हादसा दिन के समय होता तो कोई घटना हो सकती थी। यहां पर छोटे बच्चे खेलते रहते हैं आवाजाही का रास्ता भी है।

जिले में अब तक वर्षा 481 मिमी

गत वर्ष 11 अगस्त तक हुई वर्षा 642 मिमी

12 घंटे तक हुई शिवना में पानी की आवक

- शिवना नदी में बुधवार रात 8ः30 बजे से पानी की आवक शुरू हुई।

- रात 9ः15 बजे कालाभाटा बांध के दो गेट छह-छह फीट तक खोले गए।

- आवक कम होने के बाद बुधवार रात 1ः30 बजे एक गेट को तीन फीट बंद किया।

- रात भर एक गेट छह फीट व एक गेट तीन फीट तक खुला रहा।

- सुबह 10 बजे पानी की आवक कुछ कम होने पर कालाभाटा के दोनों गेट दो-दो फीट तक ही खुले रखे गए।

- रात में कालाभाटा बांध के दो गेट खोलने से शिवना नदी में रामघाट बैराज व पशुपतिनाथ मंदिर के समीप व मुक्तिधाम के समीप की छोटी पुलिया जलमग्न हो गई।

- दिन भर छोटी पुलिया के ऊपर से पानी बहा।

- कालाभाटा बांध के दो गेट दो-दो फीट तक शाम को पांच बजे तक खुले रहे।

झारड़ा में तेज वर्षा से सड़कों पर बहा पानी

झारड़ा। गांव झारड़ा क्षेत्र में गुरुवार को सुबह से ही जोरदार वर्षा हुई। दिन भर रिमझिम तो कहीं तेज वर्षा का दौर जारी रहा। उमस व गर्मी से भी राहत मिली। वर्षा का इंतजार कर रहे किसानों को भी बड़ी राहत मिला। गांव की सड़कों से पानी बह निकला। वर्षा के दौरान विद्युत व्यवस्था भी प्रभावित हुई।

Posted By: Nai Dunia News Network

NaiDunia Local
NaiDunia Local
  • Font Size
  • Close