मंदसौर (नईदुनिया प्रतिनिधि)। राष्ट्रीय पुरानी पेंशन बहाली संयुक्त मोर्चा ब्लाक दलौदा की बैठक ग्राम करजू में हुई। पेंशन मोर्चा के उज्जैन संभाग प्रभारी तथा राज्य अध्यापक संघ प्रदेश उपाध्यक्ष गजराजसिंह सिसौदिया ने कहा कि वर्षों तक शासकीय सेवा करने के बाद कर्मचारी इस एनपीएस के तहत खाली हाथ घर जा रहा है। जवानी लेकर नौकरी में आता है और बुढ़ापा लेकर घर जाता है।

उन्होंने कहा कि स्वाभिमान और आत्म सम्मान से जीने का अवसर पेंशन के रूप में जब देखता है तो वह न्यू पेंशन स्कीम उसके सपने पर कुठाराघात करती है। 500-800 रुपये की न्यूनतम पेंशन 1998 में नियुक्त कर्मचारी को वर्तमान में मिल रही है। केंद्र और राज्य सरकार न्यू पेंशन स्कीम देकर कर्मचारियों के भविष्य के साथ खिलवाड़ कर रही है। पुरानी पारिवारिक पेंशन प्राप्ति के लिए देशभर के 60 लाख न्यू पेंशन पीड़ित कर्मचारी संघर्ष के लिये मैदान में हैं। जिलाध्यक्ष अनिल सांखला ने कहा कि न्यू पेंशन स्कीम का हम विरोध करते हैं और सरकार से मांग करते हैं कि हमें पुरानी पारिवारिक पेंशन ही प्रदान करें। इससे हमारा सेवानिवृत्त कर्मचारी सम्मानजनक तरीके से जीवन व्यापन कर सके। इस हेतु एक मार्च को पूरे प्रदेश में ब्लाक स्तरीय तथा 22 मार्च को जिलास्तरीय ज्ञापन सौंपा जाएगा। इस अवसर पर सर्वानुमति से एनओपीआरयूएफ का दलौदा तहसील ब्लाक अध्यक्ष कन्हैयालाल चौहान को बनाया गया। इस अवसर पर राज्य अध्यापक संघ के सदस्यता अभियान का शुभारंभ किया। एनओपीआरयूएफ के जिलाध्यक्ष अनिल सांखला, तृतीय वर्ग शासकीय कर्मचारी संघ प्रदेश सचिव यशवंत जोशी, पेंशन मार्चा के जिला उपाध्यक्ष राजेंद्र शर्मा, राज्य अध्यापक संघ के जिला उपाध्यक्ष देवीलाल सुनार्थी, मोर्चा जिला प्रवक्ता हेमंत सुथार की उपस्थिति में दलौदा ब्लाक के सभी साथियों के साथ बैठक हुई। संचालन गोपालसिंह आंजना ने किया। आभार बद्रीलाल कीटकर ने माना।

Posted By: Nai Dunia News Network

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

 
Show More Tags