मंदसौर (नईदुनिया प्रतिनिधि)। कोरोना महामारी की तीसरी लहर की आशंका को देखते हुए जिले में स्वास्थ्य अमला तैयारियों में जुटा हुआ है। तीसरी लहर बच्चों पर अधिक खतरा की आशंकाएं भी चल रही हैं। इन्हीं आशंकाओं के चलते जिला अस्पताल में बच्चों के लिए 18 बेड का आइसीयू तैयार किया जा रहा है। 32 बेड का आइसीयू अस्पताल में पहले से है। जिला अस्पताल सहित जिले के 10 अस्पतालों में आक्सीजन प्लांट एवं व्यवस्था भी हो चुकी है। सीएमएचओ का कहना है कि तीसरी लहर की आशंका देखते हुए सभी आवश्यक तैयारियां की जा रही हैं। इसके साथ ही लोगों को भी जागरूक किया जा रहा है। जिले के नौ अस्पतालों में 150 आक्सीजन बेड तैयार है। जिले में 204 आक्सीजन कंसंट््रेटर हैं, वहीं जिला अस्पताल में एक और आक्सीजन प्लांट की तैयारी चल रही है और अस्पताल में सभी वार्डों के बेड को आक्सीजन लाइन से जोड़ दिया गया है।

कोरोना की दूसरी लहर में बुरी तरह से प्रभावित हुई स्वास्थ्य व्यवस्थाओं को अब स्वास्थ्य अमले द्वारा बेहतर करने के प्रयास किए जा रहे हैं। तीसरी लहर की आशंका भी बनी हुई है। इसी को लेकर जिलेभर में कोरोना से बचाव और स्वास्थ्य सुविधाओं, संसाधनों को बेहतर बनाए रखने के लिए तैयारियां चल रही हैं। जिला अस्पताल में आक्सीजन प्लांट से वार्डों के सभी बेड को जोड़ दिया गया है। अस्पताल में बच्चों के लिए आइसीयू वार्ड भी तैयार किया जा रहा है। जिला अस्पताल में सिंधी वार्ड एवं कुपोषित बच्चों के लिए बनाए गए पोषण पुनर्वास केंद्र को भी सेंटर आक्सीजन वार्ड बनाया जा रहा है।

सीएमएचओ डा. केएल राठौर ने बताया कि जिले में गरोठ व शामगढ़ अस्पताल में 30-30, भानपुरा में 20, सीतामऊ सुवासरा एवं धुंधड़का में 15-15 तथा नगरी व नारायणगढ़ में 10-10 बेड आक्सीजन के तैयार किए गए हैं। कुल नौ अस्पतालों में 150 बेड तैयार हुए हैं। भानपुरा में आक्सीजन प्लांट की तैयारी चल रही है। पूरे जिले में 204 आक्सीजन कंसलटेटर है, जिनकी क्षमता 10 लीटर की है।

लोगों को कर रहे बचाव के लिए जागरूक

पिपलियामंडी। कोरोना की तीसरी लहर की आशंका के चलते स्वास्थ्य अमला सतर्क है। प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र पर आने वाले लोगो को लगातार जागरूक किया जा रहा है। स्वास्थ्य विभाग, पुलिस प्रशासन व नगर परिषद की टीमें भी कार्रवाई में जुटी हुई हैं। चिकित्सक निशांत शर्मा ने बताया कि बचाव के लिए स्क्रीनिंग की जा रही है। कनघट्टी मार्ग, मनासा मार्ग, मन्दसौर मार्ग सहित नगर से जुड़े सभी मार्गों पर पुलिस नप व हमारी स्वास्थ्य विभाग की टीम मिलकर स्क्रीनिंग व सेम्पलिंग कर रहे है। अभी तक कोई भी ऐसा मामला नहीं आया है।मगर हम लोगों में जागरूकता लाने के लिए मास्क व शारीरिक दूरी का पालन करवाया जा रहा है।

ब्लाक स्तर पर यह तैयारियां

भानपुरा

कोरोना की तीसरी लहर की आशंका को देखते हुए भानपुरा में भी शासकीय अस्पताल में आक्सीजन प्लांट का काम चल रहा है, 20 बेड पर आक्सीजन सेंटर लाइन डाली गई है। डिजीटल एक्सरे मशीन चालू की गई है। ब्लाक मेडिकल अधिकारी डा. बीएल सिसोदिया ने बताया कि तीसरी लहर की आशंकाओं को देखते हुए बचाव और उपचार की सभी व्यवस्थाएं की जा रही हैं। भानपुरा अस्पताल में चिकित्सकों की कमी है। विशेषज्ञ चिकित्सक के पद खाली हैं। एक भी एमडी या एमएस चिकित्सक नहीं है।

गरोठ

स्वास्थ्य विभाग द्वारा कोरोना की तीसरी लहर की आशंका को देखते हुए विभिन्ना जागरूकता कार्यकमों के साथ ही उपचार की सुविधाओं को भी बेहतर किया जा रहा है। ब्लाक मेडिकल अधिकारी मनीष दानगढ़ ने बताया कि तीसरी लहर की आशंका को देखते हुए वरिष्ठ अधिकारियों के निर्देशन में पूरा स्टाफ मुस्तैद है। मरीजों के लिए आक्सीजन प्लांट भी तैयार हो गया है। वेंटिलेटर बेड सहित चिकित्सक और स्टाफ पूरी तैयारी में जुटे हुए है।

मल्हारगढ़

ब्लाक मेडिकल अधिकारी वीके सुरा ने बताया कि कोरोना की तीसरी लहर की आशंका को देखते हुए उपचार संबंधी सभी तैयारियां की जा रही हैं। मल्हारगढ़ में 15 बेड, नारायणगढ़ में 12 आक्सीजन बेड एवं पिपलियामंडी में कोविड सेंटर तैयार है। नारायणगढ़ में आक्सीजन प्लांट तैयार हो चुका है। इसके साथ ही स्वास्थ्य केंद्रों में भी बेड तैयार किये गए है। कोरोना की स्थिति से निपटने के लिए स्टॉफ भी पूरी तरह से तैयार है।

सीतामऊ

सीतामऊ ब्लाक मेडिकल अधिकारी अरविंद चौहान ने बताया कि कोरोना की रोकथाम के लिए पूरे ब्लाक में हमारी टीमें लगातार सैं पलिंग कर रही है ताकि कोई पाजिटिव मिलता है तो जल्द हम बेहतर उपचार दे सकें। इसके साथ ही सीतामऊ अस्पताल में पर्याप्त बेड है। आक्सीजन प्लांट भी लग चुका है। उपचार के सभी संसाधन भी तैयार है और स्टाफ भी। आने वाली किसी भी आशंका से निपटने के लिए तैयारी पूरी है।

कोरोना की तीसरी लहर की आशंका को देखते हुए सभी तैयारियां पूर्ण की जा रही हैं। जिला अस्पताल में एक और आक्सीजन प्लांट की तैयारी की जा रही है। बच्चों के लिए आइसीयू वार्ड तैयार किया जा रहा है। धुंधड़का एवं नारायणगढ़ अस्पताल में एक्सरा मशीन की डिमांड भेजी गई है। जिलेभर के नौ अस्पतालों में 150 बेड आक्सीजन के तैयार किए गए हैं। सभी दूर स्वास्थ्य अमला भी सतर्क है। बचाव और उपचार के लिए जो भी आवश्यक उपाय किए जा रहे हैं।

-डा. केएल राठौर, सीएमएचओ, मंदसौर

Posted By: Nai Dunia News Network

NaiDunia Local
NaiDunia Local