जिम्मेदार सड़क पर सब्जी बेचने को मजबूर हो रहे विक्रेता

हर बार निकाय चुनाव में स्थाई सब्जी मंडी बनाने का वादा कर रहे राजनीतिक दल, चुनाव के बाद नहीं दे रहे ध्यान

शामगढ़ (नईदुनिया न्यूज)। नगर में सर्वसुविधायुक्त सब्जी मंडी का अभाव वर्षो से बना हुआ है। हर बार निकाय चुनाव के दौरान राजनीतिक दल स्थाई सब्जी मंडी का वादा तो करते है। लेकिन नगर में सब्जी मंडी के लिए पहल नहीं हो रही है। इसके चलते आज आज भी सब्जी मंडी सड़क पर ही लग रहीं है। परिषद में बीस वर्षो से भाजपा काबिज है। भाजपा हर पांच साल में निकाय चुनाव में हर बार अपने घोषणा पत्र में स्थाई सर्व सुविधायुक्त सब्जी मंडी बनाने का वादा करती है, लेकिन 22 वर्षो में सब्जी मंडी के लिए जमीन तक नहीं मिली है।

कभी सब्जी मंडी को कृषि उपज मंडी में लगाने की प्लानिंग की गई तो कभी अन्य स्थान पर, लेकिन अब तक सब्जी मंडी के लिए जगह का चयन नहीं हो पाया है। जबकि शामगढ़ प्रमुख वाणिज्य नगर के साथ जिला मुख्यालय के बाद दूसरे नंबर का स्थान है। राजनैतिक दल हर चुनाव में सब्जी मंडी एवं बायपास बनाने का वादा जोर शोर से करते है। लेकिन चुनाव के बाद धरातल पर कुछ नहीं होता। इतने बड़े नगर मे सब्जी मंडी पुलिस थाने के सामने सड़क पर खुले आसमान के नीचे लग रही है। ठंड, बरसात एवं गर्मी से बचने के लिए सब्जी विक्रेता दुकानों के सामने के सामने चदद्रर बोरी बिछाकर बैठते है। अवारा पशुओं के उत्पात के बीच भारी वाहनों के आने-जाने से सब्जी क्रेता एवं विक्रेता सभी परेशान होते है। सब्जी विक्रेता अनिल माली ने बताया कि हर बार नगर परिषद चुनाव के पहले दोनो दलों के नेता वोट मांगते समय सब्जी मंडी की बात करते है, लेकिन करते कुछ नहीं है। सब्जी विक्रेता सुनीताबाई एवं राजेन्द्र पुत्र नंदा का कहना है कि वर्षो से हम सड़कों पर सब्जी विक्रय कर रहे है। नगर परिषद के कर्मचारी प्रतिदिन रसीद काट कर रुपये ले जाते हैं, मगर हम खुले आसमान में व्यवसाय कर रहें है। शिक्षिका संध्या ठंडन ने कहा इतना बड़ा नगर होने के बावजूद सब्जी मंडी का ना होना बड़ी विडंबना है। सीमा मेहता का कहना है कि इतने वर्ष के बाद भी जनप्रतिनिधि स्थाई सब्जी मंडी नहीं दे पाए तो और विकास क्या देंगे।

Posted By:

NaiDunia Local
NaiDunia Local
  • Font Size
  • Close