फ्लेग - शिक्षा : विद्यार्थियों ने कॉलेज पहुंचकर की शिकायत, विद्यार्थी बोले-एक फार्म भरने में एक-एक घंटा लग रहा

शीर्षक -प्रवेश प्रारंभ होने के दूसरे दिन भी अटकता रहा सर्वर

बीए, बीकॉम, बीएससी, बीबीए में प्रवेश के लिए ऑनलाइन आवेदन 20 अगस्त तक

6 एमडीएस-61

के प्शन- राजीव गांधी शास. महाविद्यालय में कॉमर्स संकाय में बैठे प्रवेश समिति के सदस्य। .नईदुनिया।

6 एमडीएस-62

के प्शन- कि योस्क सेंटर पर फॉर्म भरते छात्र। .नईदुनिया।

मंदसौर। नईदुनिया प्रतिनिधि

पांच अगस्त से बीए, बीकॉम, बीएससी, बीबीए में प्रवेश प्रारंभ हो गए हैं। कोरोना संक्रमण के चलते इस साल आवेदन से पहले फीस भी ऑनलाइन ही जमा करवाई जाएगी। इसके लिए विद्यार्थी कहीं से भी आवेदन कर सकते हैं, लेकि न प्रवेश प्रारंभ होते ही फॉर्म भरने में सर्वर ने दिक्कतें बढ़ा दी हैं। दूसरे दिन गुरुवार को भी सर्वर की समस्या बनी रही। एक-एक फॉर्म भरने में एक घंटे तक का समय लग रहा है। इसके कारण कई विद्यार्थी फॉर्म भरने के लिए पहुंचे, लेकि न सर्वर की समस्या को देख वापस लौट गए। यूजी की कक्षाओं में प्रवेश के लिए प्रथम चरण में ऑनलाइन आवेदन की 20 अगस्त अंतिम तारीख है।

ऑनलाइन आवेदन में सर्वर की समस्या होने पर गुरुवार को विद्यार्थी पीजी कॉलेज पहुंच गए, यहां पर प्राचार्य को समस्या बताई, लेकि न शाम तक सर्वर अटकते हुए ही चला। इसके बाद 13 अगस्त से पीजी की कक्षाओं के प्रवेश प्रारंभ होंगे। विद्यार्थियों को प्रवेश में कि सी तरह की दिक्कतें न हों, इसके लिए पीजी कॉलेज में प्रवेश समितियां बनाई गई हैं, जिनसे विद्यार्थी संपर्क कर सकते हैं। वहीं प्रवेश प्रक्रिया के बाद विद्यार्थियों को ऑनलाइन पढ़ाने के लिए भी कॉलेज में तैयारी चल रही है। यूजी की कक्षाओं में प्रवेश के लिए 20 अगस्त तक ऑनलाइन पंजीयन होगा। इसके बाद 28 अगस्त को प्रथम चरण में सीट आवंटन होंगे। दो सितंबर तक ऑनलाइन शुल्क जमा करवाना होगा। इसके बाद दो सीएलसी चरण होंगे। यूजी में चार सितंबर एवं पीजी में 11 सितंबर को सीएलसी का प्रथम चरण होगा। वहीं यूजी में प्रवेश के लिए 22 सितंबर एवं पीजी में प्रवेश के लिए 26 सितंबर को सीएलसी द्वितीय चरण होगा।

बॉक्स-

यू-टयूब पर चैनल बनाकर भेजेंगे लेक्चर के वीडियो

कोरोना संक्रमण को देखते हुए प्रवेश प्रक्रिया के बाद विद्यार्थियों को ऑनलाइन पढ़ाया जाएगा। इसके लिए टेलीग्राम पर भी ग्रुप बनाया गया है। प्राचार्य सीएल खिंची ने बताया कि जल्द ही कॉलेज का एक यू-टयूब चैनल भी बनाया जाएगा। इसमें प्रोफे सरों के 30 मिनट या एक घंटे के लेक्चर भेजे जाएंगे ताकि विद्यार्थी जब समय मिले तक चैनल के माध्यम से लेक्चर सुन सके । एक सप्ताह में तीन या चार लेक्चर प्रत्येक विषय के भेजे जाएंगे। घर बैठकर ही विद्यार्थी नोट्स बना सकें गे। प्राचार्य श्री खिंची ने बताया कि कॉलेज में कक्षाएं लगाने के आदेश मिलते हैं तो इसके लिए भी सभी तैयारियां की गई हैं। कोरोना से बचाव की सामग्री खरीदने के लिए कॉलेज को 30 हजार रुपए प्राप्त हुए थे। इस राशि से सैनिटाइजर एवं व मास्क खरीदे हैं। रूम सैनिटाइजर की मशीन खरीद रहे हैं। कॉलेज के बाद दो सैनिटाइजर मशीन लगाएंगे। 500 मास्क खरीदे हैं। कु छ स्टाफ को बांट दिए हैं, बाकी बच्चों को भी बांटेंगे।

बॉक्स-

6 एमडीएस-63

के प्शन-अनिल राठौर,बीए प्रथम वर्ष

-कॉलेज में प्रवेश प्रारंभ हो गए हैं, लेकि न आवेदन करने में दिक्कतें हो रही हैं। सर्वर ठीक से नहीं चल रहा है। गुरुवार को आवेदन फॉर्म भरने में करीब एक घंटे का समय लग गया।

अनिल राठौर, छात्र, बीए प्रथम वर्ष

6 एमडीएस-64

के प्शन-मुके श मेहर, बीए फाइनल

-प्रवेश के लिए फॉर्म भरने एमपी-ऑनलाइन सेंटर पर आया हूं। यहां पर सर्वर की बहुत समस्या है। फॉर्म भरने में बहुत देर लग रही है। यही समस्या बनी रही तो विद्यार्थियों को बहुत दिक्कतें होंगी।

मुके श मेहर, छात्र बीए फाइनल

6 एमडीएस-65

के प्शन-विजयपालसिंह सिसोदिया, बीएससी द्वितीय वर्ष

-पांच अगस्त से प्रवेश प्रक्रिया शुरू हो गई है, लेकि न दूसरे दिन भी सर्वर की समस्या बनी रही। इसके कारण कई विद्यार्थी ऑनलाइन सेंटरों पर दिनभर चक्कर ही लगा रहे हैं। सर्वर की समस्या के कारण फॉर्म भरने में एक-एक घंटे का समय लग रहा है।

विजयपालसिंह सिसोदिया, छात्र, बीएससी द्वितीय वर्ष

बॉक्स-

सर्वर की दिक्कतें हैं, विद्यार्थियों ने शिकायत भी की है

प्रवेश प्रक्रिया पूरी तरह से ऑनलाइन ही हो रही है। विद्यार्थी कहीं से भी ऑनलाइन आवेदन कर सकते हैं और फीस भी ऑनलाइन ही जमा होगी। प्रवेश प्रारंभ होने के बाद दूसरे दिन गुरुवार को भी लिंक की समस्या बनी रही, इस संबंध में कु छ विद्यार्थियों ने कॉलेज आकर शिकायत भी की है। विद्यार्थियों को प्रवेश में कि सी तरह की दिक्कतें आती हैं तो वे कॉलेज में सम्पर्क कर सकते हैं, इसके लिए अलग-अलग समितियां बनाई गई हैं। 20 अगस्त तक ऑनलाइन आवेदन होंगे। इसके बाद सीएलसी चरण भी होंगे।

-डॉ. सीएल खिंची, प्राचार्य, शास. महाविद्यालय मंदसौर

Posted By: Nai Dunia News Network

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

ipl 2020
ipl 2020