तेलिया तालाब में आवक के रास्ते रुके, घरों में घुसा पानी

अभिनंदन नगर, अशोक नगर, राजीव नगर, यश नगर में भरा पानी

नारायणगढ़ क्षेत्र में चार घंटे बंद रहा मंदसौर-मनासा मार्ग

जिला प्रशासन ने लगभग 2500 प्रभावितों को सात राहत शिविरों में पहुंचाया

14 एमडीएस-62 केप्शनः मंदसौर में शिवना ने पशुपतिनाथ महादेव के नीचे के चार मुखों का जलाभिषेक किया। .नईदुनिया

14 एमडीएस-63 केप्शनः मंदसौर में श्री पशुपतिनाथ महादेव मंदिर परिसर में भरा पानी। .नईदुनिया

14 एमडीएस-64 केप्शनः मंदसौर में श्री पशुपतिनाथ महादेव मंदिर के समीप उफनती शिवना नदी। .नईदुनिया

14 एमडीएस-65 केप्शनः रेवास-देवड़ा रोड पर तेलिया तालाब वेस्टवियर की पुलिया से बहता हुआ पानी। .नईदुनिया

14 एमडीएस-66 केप्शनः नरसिंहपुरा रिंगवाल के पास जलमग्न श्मशान घाट। .नईदुनिया

14 एमडीएस-67 केप्शनः यश नगर मार्ग पर पुलिया से ओवरफ्लो होता नाले का पानी। .नईदुनिया

14 एमडीएस-68 केप्शनः मेघदूत नगर में कई मकानों में पानी घुस गया। .नईदुनिया

14 एमडीएस-69 केप्शनः खानपुरा स्थित अशोक नगर में भी बुगलिया नाले का पानी भर गया। .नईदुनिया

14 एमडीएस-70 केप्शनः रामघाट से शहर के लिए जा रही पाइप लाइन भी पिलर सहित बह गई। .नईदुनिया

14 एमडीएस-71 केप्शनः खानपुरा क्षेत्र की राजीव कॉलोनी में जलमग्न मकान। .नईदुनिया

14 एमडीएस-75 केप्शनः यश नगर स्थित अपने मकान से बाहर आते विधायक यशपालसिंह सिसौदिया। .नईदुनिया

14 एमडीएस-76 केप्शनः मंदसौर के रेलवे स्टेशन क्षेत्र में रात में पानी घरों में घुस गया। .नईदुनिया

14 एमडीएस-77 केप्शनः मालगोदाम रोड पर रात में भरा पानी। .नईदुनिया

14 एमडीएस-81 केप्शनः गीताभवन अंडरब्रिज भी पूरा पानी से डूब गया। .नईदुनिया

14 एमडीएस-82 केप्शनः अभिनंदन नगर में अजीत बंडी के घर में घुसा पानी। .नईदुनिया

14 एमडीएस-83 केप्शनः मिड इंडिया मार्ग पर हर्ष विलास पैलेस के बाहर भरा पानी। .नईदुनिया।

14 एमडीएस-90 केप्शनः मेघदूत नगर में जलमग्न हो रहे मकान। .नईदुनिया

मंदसौर। नईदुनिया प्रतिनिधि

शहर में मंगलवार-बुधवार रात लगभग दो घंटे हुई रिकॉर्डतोड़ बरसात ने पूरे मंदसौर को पानी-पानी कर दिया। इस दौरान लगभग पांच इंच बरसात दर्ज की गई। मंगलवार सुबह तक मंदसौर में 42 इंच बरसात हो चुकी थी। मल्हारगढ़ तहसील में भी झमाझम बरसात होने से बुगलिया नाला भी उफान पर आया व तेलिया तालाब को भरने वाला नाला भी अपने वास्तविक स्वरूप में आ गया। नाले में कई अवरोध होने से पानी यश नगर, मेघदूत नगर के घरों में घुस गया। नारायणगढ़ क्षेत्र में झमाझम बरसात से मंदसौर-मनासा मार्ग चार घंटे तक बंद रहा। इधर गांधीसागर बांध का जलस्तर 1291 फीट तक पहुंच गया है। पानी की आवक 4.28 लाख क्यूसेक हो रही है। शिवना ने भी बुधवार को भगवान पशुपतिनाथ महादेव की मूर्ति के नीचे के चार मुखों का जलाभिषेक कर दिया।

शहर में 2006 के बाद अब जाकर रिकॉर्डतोड़ बरसात हुई है। मंगलवार-बुधवार की रात एक से तीन बजे के बीच हुई तेज बरसात से शहर की कई कॉलोनियों व निचले क्षेत्रों में जलजमाव हो गया। तेलिया तालाब को भरने वाला नाला ओवरफ्लो होने से यश नगर, मेघदूत नगर की कई गलियों में पानी भर गया। यश नगर में तो घरों में कमर-कमर तक पानी लगभग सात-आठ घंटे भरा रहा। हिस्सों में पानी भर गया। यश नगर में विधायक यशपालसिंह सिसौदिया का घर भी टापू बन गया। डिगांव-बसई मार्ग पर शकरखेड़ी-खेड़ा के बीच तुम्बड़ के नदी की पुल में दरार आने से एक तरफ का यातायात बंद किया गया है।

पशुपतिनाथ महादेव के चार मुंह का हुआ अभिषेक

शिवना नदी में भी पानी की आवक तेज होने से भगवान श्री पशुपतिनाथ महादेव के गर्भगृह में पानी प्रवेश कर गया। अष्टमुखी प्रतिमा के नीचे के चार मुखों का अभिषेक करने के बाद नदी का पानी फिर उतरना शुरु हो गया।

बाक्स -----------

बुधवार शाम तक 1291.10 फीट हुआ गांधीसागर का जलस्तर

गांधीसागर। गांधीसागर बांध के कैचमेंट एरिया में हो रही लगातार बरसात से जलस्तर लगातार बढ़ता जा रहा है। बुधवार शाम पांच बजे तक 1291.10 फीट हो गया था और पानी की आवक 4.28 लाख क्यूसेक हो रही है। जल संसाधन विभाग के कार्यपालन यंत्री अरुणसिंह चौहान ने बताया कि अगर यही आवक रही तो एक-दो दिन में ही जलस्तर 3-4 फीट तक बढ़ जाएगा। इससे गेट खुलने की संभावना बढ़ रही है।

बाक्स

14 एमडीएस-52केप्शनः नारायणगढ़ में तेज बहाव के चलते कारण खेतों में घुसा पानी। .नईदुनिया

14 एमडीएस-53 केप्शनः पुलिया पर जलसैलाब को देखने उमड़ा जनसैलाब। .नईदुनिया

14 एमडीएस-54 केप्शनः सड़क और खेतों के चारों ओर दिखा पानी ही पानी। .नईदुनिया

14 एमडीएस-55 केप्शनः भयावह हुई बारिश से सड़क करीब दो फूट तक डूबी। .नईदुनिया

14 एमडीएस-56 केप्शनः नारायणगढ़ में निरीक्षण करने पहुंचे विधायक जगदीश देवड़ा व प्रशासनिक अधिकारी। .नईदुनिया

14 एमडीएस-57 केप्शनः रोड पर एक किमी तक वाहनों की लंबी लाइन लग गई। .नईदुनिया

नारायणगढ़। अतिवृष्टि के कारण समीपी गांव बरखेड़ा वीर पुरिया जलमग्न हो गया। घरों में करीब चार-पांच फीट तक पानी घुस गया। लोग घर की छतों पर चढ़कर इस भयावह मंजर को देखने के सिवा कुछ भी कर पाने में असमर्थ थे। पानी के कारण घरों में रखी खाने-पीने की वस्तुओं सहित अन्य सामान भी खराब हो गया। गांव के योगेंद्रसिंह सिसौदिया ने बताया कि गांव के मुख्य चारभुजा मंदिर सहित तीन अन्य मकान तेज बारिश के कारण धराशायी हो गए। मंदसौर-मनासा रोड चार घंटे तक बाधित रहा। मंदसौर मनासा जाने वाली बसों को मल्हारगढ़ होकर जाना पड़ा। रोड पर ज्यादा पानी एवं तेज बहाव की सूचना मिलते ही प्रशासन सतर्क हो गया। थाना प्रभारी अरविंदसिंह राठौर अपने दल बल के साथ मौके पर पहुंचे तथा तेज बहाव के बीच में राहगीरों को रोड पार नहीं करने की सलाह दी। तेज बहाव के कारण आसपास के खेत तालाब बन गए। सुबह सात बजे विधायक जगदीश देवड़ा, मल्हारगढ़ एसडीएम रोशनी पाटीदार, तहसीलदार मुकेश सोनी सहित आला अधिकारियों के साथ मौके पर पहुंचे।

बाजखेड़ी। ग्राम बाजखेड़ी में भी स्कूल परिसर तालाब बन गया। कई लोगों के मकानों में पानी घुस गया। मंदसौर-सीतामऊ रोड पर मंगलवार रात एक बजे से घरों में पानी घुसना शुरू हुआ जो बुधवार सुबह तक भरा ही रहा। चांगली पटवारी महेश पाटीदार ने मौके पर पहुंचकर सर्वे किया। मंदसौर के सीतामऊ फाटक क्षेत्र में लाभमुनि चिकित्सालय के यहां से देव मोटर्स तक पानी ही पानी भर गया।

आमजन पुलिया, नाले-तालाब के पास नहीं जाएं

कलेक्टर मनोज पुष्प और एसपी हितेष चौधरी ने जिलेभर के लोगों से कहा है कि अभी तक जिले में बहुत अधिक बारिश हो रही है। ऐसी स्थिति में आम लोग पुलिया, नाला, तालाब, नदियों आदि के पास नहीं पहुंचें। कई लोग सेल्फी के चक्कर में दुर्घटना का शिकार हो जाते हैं। भीड़ की वजह से राहत दल को भी कार्य करने में असुविधा होती है। ऐसे स्थानों पर जाने से बचें और दूर ही रहें।

मल्हारगढ़ के चार गांवों में राहत शिविर लगाए

मंदसौर। मल्हारगढ़ क्षेत्र में भारी वर्षा होने से चार गांवों बादरी, काचरिया चंद्रावत, बही पार्श्वनाथ, लूनाहेड़ा के लोगों को बचाव कार्य कर बाहर निकाला गया है। इन चारों गांवों में राहत शिविर स्कूल एवं सरकारी भवनों में लगाए गए हैं। शिविरों में 700 से 800 लोग ठहरे हुए हैं। सभी को खाद्य सामग्री, कपड़े एवं आधारभूत सुविधाएं प्रशासन द्वारा मुहैया कराई गई हैं।

मंदसौर में तीन राहत शिविर

मंदसौर तहसील में आम लोगों के लिए तीन राहत शिविर लगाए गए हैं। इनमें 2000 से 2500 के आसपास लोग ठहरे हैं। शिविर पशुपतिनाथ मंदिर परिसर, धोबी समाज धर्मशाला एवं यश नगर में लगाए गए हैं। शिविरों में भोजन की व्यवस्था की जा रही हैं। मंदसौर तहसील में चार लोगों के बहने की सूचना थी। इसमें से एक को बचा लिया गया। बाकी के शव मिले हैं।