बॉटम में लगा दें----

तीसरे दिन दोपहर बाद खुले बाजार, फायरिंग के विरोध में आंदोलन पर थे कस्बे के लोग

12 एमडीएस-51 केप्शनः धरना स्थल पर व्यापारियों व ग्रामीणों को समझाइश देते हुए एसडीएम विजयेश पंड्या।

अरनोद। नईदुनिया न्यूज

कस्बे में गत दिनों हुई हवाई फायरिंग के मामले में चल रहा आंदोलन तीसरे दिन खत्म हो गया। उपखंड अधिकारी विजयेश पंड्या ने धरना स्थल पर लोगों को समझाइश देकर पुलिस व प्रशासन द्वारा की जा रही कार्रवाई से अवगत कराया। इस मौके पर ग्रामीणों ने ज्ञापन भी सौंपा। उपखंड अधिकारी के आश्वासन के बाद धरना खत्म कर दिया गया।

गौरतलब है कि सात अक्टूबर को गौतमेश्वर रोड पर एक ज्वेलरी दुकान के सामने दो बाल अपचारियों ने हवाई फायरिंग की थी। इसके विरोध में कस्बे में आठ अक्टूबर से बाजार बंद थे। व्यापार मंडल और ग्रामीण अड़े हुए थे कि कड़ी कार्रवाई की जाए। साथ ही कलेक्टर एवं पुलिस अधीक्षक को धरनास्थल पर बुलाकर ज्ञापन लेने की मांग पर अड़े हुए थे। अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक और उप अधीक्षक भी मौके पर पहुंचे और समझाइश का प्रयास किया था। मामले में थाने में अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक अशोक मीणा एवं उपखंड अधिकारी पंड्या एवं पुलिस उप अधीक्षक गोवर्धनलाल खटीक ने सीएलजी सदस्यों एवं जन सहभागिता व सदस्यों के साथ बैठक की थी। इसमें बताया गया कि बाल अपचारियों को गिरफ्तार कर लिया गया है। इस मामले को केस ऑफिसर स्कीम में लेकर कार्रवाई की जा रही है। ऐसे में अब बाजार खोल देना चाहिए। उनकी समस्याओं का उचित निराकरण किया जाएगा, पर लोग कलेक्टर एवं पुलिस अधीक्षक को धरना स्थल पर बुलाने की मांग पर अड़े थे। इसे लेकर उपखंड अधिकारी पंड्या ने व्यापार मंडल के सदस्यों एवं ग्रामीणों से समझाइश की। समस्याएं सुनकर सभी को संतुष्ट किया। मौके पर ही जिला कलेक्टर से बात कर प्रतिनिधिमंडल को मिलने का समय लिया। उसके बाद ग्रामवासियों ने ज्ञापन दिया। इसमें गर्ल्स स्कूल के पास पुलिस चौकी खोलना, नाबालिगों द्वारा बाजारों में तेज गति से मोटरसाइकिल चलाने वालों के खिलाफ सख्त कार्रवाई एवं नौगांवा चौकी पर नाबालिग वाहन चालकों को वहीं रोककर उनके खिलाफ कार्रवाई की मांग की गई। उपखंड अधिकारी ने समस्याओं को उच्चाधिकारी को पहुंचाने का आश्वासन दिया। इसके बाद दोपहर दो बजे बाजार खुल गए। पुलिस ने बालअपचारी से फायर में उपयोग में ली गई बुलेट व पिस्टल बरामद कर ली है।