मंदसौर (नईदुनिया प्रतिनिधि), Mandsaur Poisonous Liquor Case। पिपलियामंडी थाना क्षेत्र में हुए जहरीली शराब कांड में शराब सप्लाय करने वाले मुख्य आरोपित जयपाल सिंह निवासी सुजानपुरा को पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया है। उससे पूछताछ चल रही है। आशंका है कि जहरीली शराब राजस्थान के सीमावर्ती क्षेत्रों में बनी थी। इधर, शराब पीने के बाद रविवार से अस्पताल में भर्ती बही पार्श्वनाथ क्षेत्र निवासी भगतराम मेघवाल की बुधवार अलसुबह उदयपुर में इलाज के दौरान मौत हो गई। अब तक जहरीली शराब पीने से सात लोग दम तोड़ चुके हैं, वहीं चार लोग अस्पताल में भर्ती हैं। इनमें से दो को कम दिखाई देने की शिकायत हो रही है। इधर, बुधवार को पुलिस व प्रशासन की टीमों ने अवैध रूप से बने 15 से अधिक ढाबों को तोड़ दिया। सीतामऊ, शामगढ़, गरोठ, सुवासरा, दलौदा, कयामपुर, कचनारा सहित अन्य स्थानों पर यह कार्रवाई की गई। पित्याखेड़ी-बरखेड़ा जयसिंह के बीच नाले में फेंके गए शराब के 500 क्वार्टर की भी जांच चल रही है। पुलिस के अनुसार इन पर 2018 के लेबल लगे हैं।

एसआइटी : 20 मिनट में तीन परिवारों से मिले

राज्य शासन द्वारा गठित विशेष जांच दल (एसआइटी) के अध्यक्ष गृह विभाग के अपर मुख्य सचिव डा. राजेश राजोरा, अतिरिक्त पुलिस महानिदेशक सतर्कता जीपी सिंह, पुलिस महानिरीक्षक रेल एमएस सिकरवार भी मंगलवार देर रात मंदसौर पहुंचे। बुधवार सुबह 11 बजे सभी पिपलियामंडी थाने पहुंच गए। यहां उज्जैन संभागायुक्त संदीप यादव, आइजी योगेश देशमुख, रतलाम डीआइजी सुशांत सक्सेना के साथ साढ़े चार घंटे तक बैठक करते रहे। इस दौरान आरोपित जयपाल से पूछताछ की। दोपहर 3.30 बजे खंखराई पहुंचे। बीस मिनट में तीन मृतकों के स्वजन से बात कर सरकारी योजनाओं के तहत सहायता दिलाने को कहा। मीडिया से चर्चा में अपर मुख्य सचिव ने कहा, अभी जांच पूरी होने तक कुछ भी कहना जल्दबाजी होगी। प्रारंभिक तौर पर सभी मौत जहरीली शराब से होने की आशंका है। पोस्टमार्टम व विसरा रिपोर्ट आने के बाद ही यह पुष्टि होगी।

Posted By: Prashant Pandey

NaiDunia Local
NaiDunia Local