मंदसौर, नईदुनिया प्रतिनिधि। जिले में गुटों में बंटी कांग्रेस नेताओं ने सोमवार और मंगलवार को अफीम किसानों के नाम पर शक्ति प्रदर्शन करने की कोशिश की है। कई नेता दोनों दिन के प्रदर्शन में शामिल रहे। धरने के बाद एक बार सहायक आयुक्त रजवानिया व सुवासरा विधायक हरदीपसिंह डंग में बहस हो गई। ज्ञापन देने के दौरान डंग ने अफीम अधिकारी से कहा कि किसानों से रुपए क्यों लेते हैं? इस पर अधिकारी ने जवाब दिया कि आप देते ही क्यों हो? इसके बाद कांग्रेसियों ने हंगामा शुरू कर दिया और वहीं गेट पर ही धरना देने लगे। नई अफीम नीति में मार्फिन के प्रश की बाध्यता होने के बाद से अफीम उत्पादक किसानों की परेशानी बढ़ गई है। सोमवार को भी मल्हारगढ़ विधानसभा के ही श्यामलाल जोकचंद सहित अन्य नेताओं ने ताकत दिखाने का प्रयास किया था तो मंगलवार को मंदसौर जनपद पंचायत उपाध्यक्ष परशुराम सिसौदिया सहित अन्य नेताओं ने जिला अफीम कार्यालय के बाहर धरना देकर घेराव किया गया।

बीस मिनट तक नारेबाजी

ज्ञापन के दौरान विधायक हरदीपसिंह डंग व परशुराम सिसौदिया ने सहायक नारकोटिक्स आयुक्त रजवानिया से कहा कि आपके अधिकारियों से कहो कि किसानों से रुपए लेना बंद करें तो रजवानिया ने कह दिया कि किसान पैसा देता ही क्यो है, इस बात पर विधायक डंग ने आपत्ति लेकर रजवानिया को खरी-खोटी सुनाई व कार्यालय के बाहर ही जमीन पर बैठकर विरोध करने लगे। लगभग 20 मिनट तक जमकर नारेबाजी हुई। बाद में जिला कांग्रेस अध्यक्ष प्रकाश रातड़िया ने हस्तक्षेप किया और रजवानिया ने सार्वजनिक रूप से सभी से माफी मांग कर रिश्वत मांगने वाले अधिकारियों को चिन्हित कर कार्रवाई की बात कही।

'सांसद लापता, खोजकर लाने वाले को इनाम'

जपं उपाध्यक्ष परशुराम सिसौदिया ने कहा कि यहां से भाजपा जीती है, उनका भी धर्म है कि किसानों की बात रखे लेकिन हमारे सांसद सुधीर गुप्ता लंबे समय से लापता हैं। अब हम उनके पोस्टर छपाकर गांव-गांव में लगवाएंगे, जो कार्यकर्ता सांसद के दिखने की सूचना देगा, उसे इनाम दिया जाएगा। धरने पर पूर्व मंत्री नरेंद्र नाहटा, पूर्व विधायक नवकृष्ण पाटिल अन्य ने भी संबोधित किया।

Posted By: Prashant Pandey