युवराजसिंह हत्याकांडः मंदसौर पुलिस नहीं ला रही थी राजस्थान पुलिस ले आई

कोतवाली पुलिस को दो दिन के रिमांड पर सौंपा

23 एमडीएस-74 : न्यायालय में गुरुवार को लाया गया सफेद टीशर्ट में खड़ा मास्टरमाइंड दीपक तंवर। .नईदुनिया

मंदसौर (नईदुनिया प्रतिनिधि)। विहिप पदाधिकारी रहे युवराजसिंह चौहान हत्याकांड के मामले में मास्टरमाइंड दीपक तंवर को गुरुवार को उदयपुर पुलिस ने प्रोटेक्शन वारंट पर मंदसौर न्यायालय में पेश किया है। तंवर ने फरवरी में उदयपुर में सरेंडर किया था उसके बाद से वहीं बंद था। मंदसौर पुलिस उसे प्रोटेक्शन वारंट पर लाना नहीं चाहती थी तो राजस्थान पुलिस ने आज उसे लाकर पेश कर दिया। न्यायाधीश ने कोतवाली पुलिस को दीपक तंवर को दो दिन की रिमांड पर सौंपा है।

मंदसौर पुलिस ने दीपक तंवर की गिरफ्तारी पर 10 हजार रुपये का इनाम भी घोषित किया था। इसके साथ ही उसकी शहीद उधमसिंह चौराहे पर स्थित गुमटियां व अभिनंदन कॉलोनी में स्थित मकान भी तोड़ने की कार्रवाई की थी। मप्र पुलिस के लगातार बढ़ते दबाव के बीच दीपक तंवर ने 17 फरवरी 2020 को उदयपुर के हिरणमगरी थाने पर सरेंडर कर दिया था। वहां आर्म्स एक्ट का मामूली केस होने के बाद भी वह जमानत पर बाहर नहीं आया और उदयपुर जेल में बंद था। बाद में तत्कालीन एसपी हितेश चौधरी ने दीपक तंवर को प्रोटेक्शन वारंट पर लाने के लिए मना ही कर दिया था और उसके जेल से बाहर निकलने पर ही लाने का सभी अधिकारियों को कहा था। हितेश चौधरी का तबादला होने पर जून में मंदसौर पुलिस के कुछ अधिकारियों ने फिर से दीपक तंवर को लाने के लिए प्रोटेक्शन वारंट पर लाने की तैयारी कर ली थी। पर एसपी सिद्घार्थ चौधरी को भनक लगने पर फिर से उसका प्रोटेक्शन वारंट निरस्त कराने के लिए कोतवाली टीआई को उदयपुर भी भेजा था। इसके बाद गुरुवार को उदयपुर पुलिस खुद ही आरोपित दीपक तंवर को अपने साथ लेकर मंदसौर न्यायालय में पेश करने आ गई। बाद में कोतवाली से गए पुलिस अधिकारी न्यायालय पहुंचे। यहां मास्टर माइंड दीपक तंवर से पूछताछ के लिए पांच दिन का रिमांड मांगा। न्यायाधीश ने दो दिन के रिमांड पर सौंपा है। क्या था मामला

9 अक्टूबर 2019 को गीताभवन अंडरब्रिज के पास केबल और व्यवसायिक विवादों के चलते विहिप के पदाधिकारी युवराजसिंह चौहान की तीन गोली मारकर हत्या कर दी गई थी। हत्याकांड में मास्टरमाइंड दीपक तंवर के साथ विक्की गौसर, विजय कप्तान और अनीस मेवाती को बताया गया था। वहीं गोली मारने व रेकी करने के मामले में शूटर अंकित तंवर, छोटू उर्फ फैजान पुत्र मुजफ्फर, नागेश उर्फ लाला, अनिल दरिंग और अरशद पुत्र अकील खां को गिरफ्तार किया था। इसके साथ ही पुलिस ने अनीस मेवाती, विक्की गोसर, विजय गौसर को भी गिरफ्तार कर लिया था। यह सभी जेल में ही है। दीपक तंवर की गिरफ्तारी पर मंदसौर के तत्कालीन एसपी हितेश चौधरी ने 10 हजार रुपये का इनाम भी घोषित किया था। पर तब 17 फरवरी 20 को दीपक तंवर ने उदयपुर के हिरणमगरी पुलिस थाने में सरेंडर कर दिया था। तब से वही बंद था।

वर्शन

- युवराजसिंह हत्याकांड में मास्टरमाइंड दीपक तंवर को उदयपुर पुलिस ने न्यायालय में पेश किया है। कोतवाली पुलिस पूछताछ के लिए दो दिन के रिमांड पर लाई है।

- वरसिंह कटारा, एसआई, कोतवाली

Posted By: Nai Dunia News Network

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस