राष्ट्रसंत कमलमुनि कमलेश ने कहा-यही भ्रष्टाचार का मूल कारण

पिपलियामंडी। देश में निर्वाचित सरकारों को गिराकर, दूसरी सरकार बनाने व हाल ही में महाराष्ट्र में सरकार बदलने को लेकर चले सियासी ड्रामे पर राष्ट्र संत श्री कमलमुनि कमलेश ने अपनी प्रतिक्रिया दी। उन्होंने कहा सिद्धांतविहीन राजनीति हावी हो रही है, धनबल व बाहुबल हावी हो रहा, इसमें कोई अछूता नजर नहीं आ रहा है।

पिपलिया में एक मुलाकात के दौरान उन्होंने वर्तमान, राजनीतिक, परिस्थितियों पर टिप्पणी करते हुए बताया कि इस कोढ़ की बीमारी से दल बदल कानून में संशोधन आवश्यक हो गया है। क्योंकि इसकी आड़ में स्वार्थ, मौका परस्त व अवसरवादी लोग, आत्मघाती कदम उठाने जैसा काम कर रहे हैं। विधायक या सांसद जिस पार्टी से चुनाव जीतकर आया है उसमें उसकी आस्था नहीं रही है तो उस पार्टी व जनप्रतिनिधि के पद से इस्तीफा दे या फिर चुनाव आयोग ऐसे दलबदल करने वाले जनप्रतिनिधि, विधायक या सांसद को हटा दे। उन्होंने बताया दल-बदल से खरीद-फरोख्त को बढ़ावा मिलता है यही भ्रष्टाचार का मूल कारण बनता है। आजकल जिस प्रकार सांसद या विधायकों को कैदी के भांति बंदी बनाया जाता है यह लोकतंत्र के साथ क्रूर मजाक है। स्वस्थ व स्वच्छ लोकतंत्र के लिए स्वच्छ नीति व पारदर्शिता लोकतंत्र के लिए अत्यंत जरुरी है।

पर्युषण आराधना हेतु स्वीकृति मिली

पिपलियामंडी। पिपलियामंडी श्रीसंघ में आगामी दिनों में पर्यूषण महापर्व पर आचार्य देव श्री यशोभद्रविजय ने दो साधु भगवंतो ने निश्रा की स्वीकृति प्रदान की। श्रीसंघ अध्यक्ष अशोक कुमठ ने बताया कि पिपलियामंडी से श्रीसंघ ने चीताखेड़ा पहुंचकर आचार्य से पर्युषण आराधना हेतु साधु भगवंत को भेजने की विनती की। इस पर आचार्यश्री ने स्वीकृति प्रदान की हैं। मंदसौर चार्तुमास के लिए पधार रहे आचार्यश्री आदि ठाणा सात में से दो साधु भगवंत पिपलियामंडी आकर आठ दिवसीय पर्यूषण पर्व आराधना कराएंगे। इस अवसर पर अशोक कुमठ के साथ ही शैतानमल रांका, अमृतलाल चौधरी, मनोहरलाल लुणावत आदि संघ सदस्य उपस्थित थे।

Posted By: Nai Dunia News Network

NaiDunia Local
NaiDunia Local
  • Font Size
  • Close