मंदसौर(नईदुनिया प्रतिनिधि)। मंदसौर में रेलवे स्टेशन परिसर में मंगलवार को बंद किए गए दो में से पैदल आने-जाने के लिए एक गेट की दीवार गिराकर शनिवार को खोल दिया गया। हालांकि अभी भी वाहनों के आने-जाने के लिए एक ही गेट रहेगा। गेट बंद करने के बाद से आस-पास के दुकानदार व यात्री भी इसका विरोध कर रहे थे। वहीं नईदुनिया भी लगातार इस मुद्दे को उठा रहा था जिसमें दुकानदारों व लोगों को होने वाली परेशानियों का भी जिक्र किया जा रहा था। प्रशासनिक अधिकारियों ने भी डीआरएम से चर्चा की थी। उसके बाद शनिवार को आरक्षण कार्यालय के तरफ वाले गेट पर बनाई दीवार गिरा दी गई। यहां लोहे के स्थांयी बेरिकेड लगे हैं इससे केवल पैदल यात्रियों के लिए ही उपयोग हो सकेगा। निजी वाहनों के साथ आटो टेम्पोइ व अन्यो वाहन भी 20 फीट संकरे रास्ते से ही आना-जाना करेंगे।

मंदसौर रेलवे स्टेशन परिसर से बाहर निकलने के तीन में से दो गेट सोमवार व मंगलवार को दीवार बनाकर बंद कर दिए गए थे। अचानक बंद करने के पश्चिम रेलवे के फैसले के को लेकर दुकानदारों ने विरोध किया था। युकां के प्रदेश महासचिव सोमिल नाहटा भी मौके पर पहुंचे थे तो इधर विधायक यशपालसिंह सिसौदिया ने कलेक्टहर को चिट्ठी लिखी थी। मौके पर पहुंचे नाहटा ने पीड़ित दुकानदारों की तरफ से रेलवे प्रशासन से भी बात की थी। इधर शुक्रवार को रेलवे के कुछ अधिकारी मंदसौर में एसडीएम बिहारीसिंह से मिले भी थे। पर इनकी बैठक में क्या हुआ यह कोई नहीं बता रहा था। शनिवार को रेलवे के ठेकेदार ने बंद किए गए दो में से एक गेट की दीवार गिराकर पैदल यात्रियों के आने-जाने के लिए रास्ता खोल दिया। वाहनों का आवागमन संकरे मार्ग से ही होगा। अब मंदसौर में ट्रेनों की संख्याि भी बढ़ रही है तो वाहनों व यात्रियों की आवाजाही भी बढ़ेगी।

बाक्स्

मिडइंडिया अंडरब्रिज की याचिका पर जवाब के लिए रेल प्रशासन ने मांगा समय

मंदसौर। मिड इंडिया अंडरब्रिज निर्माण को लेकर उच्च न्यायालय की खंडपीठ इंदौर में एक याचिका प्रस्तुत की गई थी इसमें रेल प्रशासन द्वारा जवाब प्रस्तुत करने के लिए समय मांगा गया है। याचिकाकर्ता महेश कुमार मोदी, गोपाल गुप्ता, राधेश्याम सुरावत, सुभाष अग्रवाल, अनिल शर्मा, अमरदीप पुरोहित के अभिभाषक डा. राघवेंद्रसिंह तोमर व धीरजसिंह पवार इंदौर ने जानकारी देते हुए बताया कि अब रेल प्रशासन मिड इंडिया अंडरब्रिज का शेष बचा हुआ कार्य प्रारंभ कर दिया गया है इसी आशय का जवाब उच्च न्यायालय में प्रस्तुत किया जाएगा। याचिकाकर्ता की ओर से माननीय न्यायालय से अनुरोध किया गया है कि रेल प्रशासन मिड इंडिया अंडरब्रिज का रास्ता इसी वर्ष दीवाली के पूर्व प्रारंभ करें ताकि जनता को सुविधा मिल सकें।

Posted By: Nai Dunia News Network

NaiDunia Local
NaiDunia Local