मंदसौर। मंदसौर जिले एवं आसपास के क्षेत्रों में तेज वर्षा का दौर जारी है। सोमवार की दोपहर बाद से हो रही वर्षा के बाद रात भर भी पानी बरसता रहा। अधिक वर्षा होने से शिवना नदी उफान पर आ गई। आगे के क्षेत्रों से पानी की तेज आवक को देखते हुए काला भाटा बांध के पांच गेट खोले गए, जिसके बाद राम घाट बांध, पशुपतिनाथ मंदिर और मुक्तिधाम क्षेत्र में शिवना नदी का जलस्तर तेजी से बढ़ा। मंगवार सुबह 6:30 बजे बाद से पशुपतिनाथ मंदिर के गर्भगृह में शिवना का पानी पहुंचना प्रारंभ हुआ। 7 बजे शिवना ने भगवान पशुपतिनाथ के चरण पखारे और सुबह 8 बजे तक भगवान पशुपतिनाथ के आठों मुख तक पानी पहुंच गया।

शिवना के इस रूप को देखने के लिए बड़ी संख्या में लोग यहां पहुंच रहे हैं। शिवना का जल स्तर बढ़ने से मुक्तिधाम की छोटी पुलिया एवं मुक्तिधाम परिसर भी जलमग्न हो गया। जिले में पिछले 24 घंटे में करीब 100 मिमी वर्षा हुई है। सबसे ज्यादा धुंधडका में 190 मिमी, सुवासरा में 130 और मंदसौर में 114 मिमी वर्षा हुई। मंदसौर जिले में अब तक लगभग 24 इंच वर्षा हो चुकी है।

निचली बस्तियों में पानी भरा, दुकानदार भी हुए परेशान

लगातार बारिश से शहर में वर्षा के पानी की निकासी की व्यवस्था भी ध्वस्त हो चुकी है। स्टेडियम मार्केट, धान मंडी, रेलवे स्टेशन क्षेत्र में दुकानों में पानी घुस गया। वहीं खानपुरा क्षेत्र में अशोक नगर व अन्य निचली बस्तियों में घरों में पानी घुस गया। नगर पालिका अध्यक्ष रामादेवी गुर्जर उपाध्यक्ष नम्रता चावला ने नगर पालिका अमले के साथ मंगलवार सुबह निचली बस्तियों में पहुंचकर निरीक्षण किया। इसके अलावा पंप हाउस की व्यवस्थाओं को भी दुरुस्त करने के निर्देश दिए।

गांधीसागर बांध के तीन बड़े गेट भी खोले

गांधीसागर बांध का जलस्तर अभी 1306.13 फीट है। पहले पांच छोटे गेट खोले गए थे। शाम 7 बजे तक तीन बड़े गेट और खोल दिए गए। इनसे 1 लाख 59 हजार 671 क्यूसेक पानी छोड़ा जा रहा है।

Posted By: Prashant Pandey

NaiDunia Local
NaiDunia Local
  • Font Size
  • Close