मंदसौर (नईदुनिया प्रतिनिधि)। शिवना शुद्धीकरण व गहरीकरण अभियान ने अब गति पकड़ ली है। अभियान के तीसरे दिन दो पोकलेन मशीन भी नदी में उतारी गईं। इससे दिन भर में लगभग 25 डंपर गाद भी बाहर निकाली गई। वहीं अब तक लगभग 45 डंपर गाद व कचरा नदी से बाहर निकाला गया हैं। अलावदाखेड़ी में बने बांध को भी खोलने से अब नदी का पानी धीरे-धीरे खाली हो रहा है। इसके बाद गहरीकरण में तेजी आएगी। शनिवार को सुबह दो घंटे चले श्रमदान में जिला पंचायत, जनपद पंचायत के अधिकारियों व कर्मचारियों के अलावा मारवाड़ी युवा मंच, सकल जैन समाज महिला प्रकोष्ठि सहित अन्य सामाजिक संगठनों के पदाधिकारी शामिल हुए। इन सबने मिलकर भी एक ट्राली कचरा बाहर निकाला।

दो दिन तक धीमा चलने के बाद अब शनिवार से शिवना गहरीकरण ने गति पकड़ ली हैं। पहले दो दिन नदी में जमी गाद निकालने के लिए एक जेसीबी लगाई गई थी। अब शनिवार से दो पोकलेन व एक जेसीबी लगा दी गई। नदी में जमा हो रहे गंदे पानी को बाहर निकालने के लिए अलावदाखेड़ी के पास बने बांध के गेट भी खोले गए। उससे पानी अब धीरे-धीरे बाहर निकल रहा है, पर शहर से निकलने वाला गंदा पानी भी प्रतिदिन नदी में ही मिल रहा हैं। उससे काम की गति प्रभावित हो रही हैं। शनिवार को लगभग 25 डंपर गाद व कचरा बाहर निकाला गया।

शनिवार को जिला प्रशासन, नगर पालिका के साथ शहर के अनेक सामाजिक एवं स्वयंसेवी संस्थाओं के प्रतिनिधियों ने सुबह 7 बजे से 9 बजे तक नदी से गाद एवं गंदगी निकालने हेतु हाथ बढ़ाएं। सुबह 7 बजे से ही शिवना नदी की छोटी पुलिया के समीप बड़ी संख्या में समाजसेवी एवं स्वयंसेवी संस्थाओं के नागरिकों के साथ महिलाएं भी उपस्थित थी। सभी ने लगभग एक से डेढ़ घंटे तक श्रमदान किया। श्रमदान में शामिल होने वाली संस्थाओं अखिल भारतीय मारवाड़ी युवा मंच, महिला शाखा, सकल जैन समाज महिला प्रकोष्ठ, दशपुर जागृति संगठन, अग्रेसर सामाजिक संस्था, जिला पंचायत परिवार सहित अन्य संगठन से जुड़े प्रतिनिधि और समाजसेवी बंधु उपस्थित रहे। जिपं सीईओ कुमार सत्यम, एसडीएम बिहारीसिंह, नपा सीएमओ प्रेम कुमार सुमन सहित बड़ी संख्या में शासकीय अधिकारी, कर्मचारी उपस्थित थे। अभियान में सुनील व्यास, नरेंद्र अग्रवाल, नरेंद्र त्रिवेदी, दिलीप सेठिया, डा. आशीष अग्रवाल, अनिल अग्रवाल, मनीष जैन, सुनील भदानिया, सावन भाटी, दिलीप गुप्ता, रानी अग्रवाल, किरण सोनगरा, अलका जैन, संगीता भदानिया, सलोनी त्रिवेदी, भावना लौहार, नंदिनी शर्मा, गौरांग त्रिवेदी, भारती अग्रवाल, रानी अग्रवाल, मंजू राका, ललिता मेहता, कुसुम पोरवाल, सीमा चौरड़िया, दिलीप अग्रवाल, अनिल अग्रवाल, मनीष भावसार, विनय दुबेला, जितेंद्र गहलोत, नेमीचंद राठौड़, दिलीप अग्रवाल, राजाराम तंवर, अजीउल्लाह खान, महेश दुबे, हरिशंकर शर्मा, कन्हैयालाल भावसार, बंशीलाल टांक, संजय दक सहित बड़ी संख्या में गणमान्यजन उपस्थित थे।

मंदसौर की जीवनदायिनी श्री पशुपतिनाथ महादेव के चरणों में कल-कल बहने वाली शिवना नदी का पानी गंदा होने की चिंता शासन व प्रशासन के साथ-साथ आमजन को भी है। इसका परिणाम है कि जब-जब भी शासन, प्रशासन शिवना शुद्धीकरण अभियान के तहत मुहिम चलाता है तो शहर की सामाजिक, धार्मिक एवं स्वयंसेवी संस्थाओं के प्रतिनिधि नदी से गाद एवं गंदगी निकालने जुट जाते हैं। उल्लेखनीय है कि शिवना नदी को लेकर कलेक्टोसरेट कार्यालय में सामाजिक एवं स्वयंसेवी संस्थाओं से जुड़े प्रतिनिधियों की बैठक हुई थी इसके बाद 19 मई से शिवना नदी गहरीकरण व शुद्धीकरण अभियान का श्रीगणेश किया गया। शनिवार को तीसरे दिवस बड़ी संख्या में सामाजिक एवं स्वयंसेवी संस्थाओं के प्रतिनिधियों ने शिवना नदी की छोटी पुलिया के नीचे नदी में उतरकर शासकीय मशीनरी जेसीबी एवं ट्रैक्टरों के साथ अपने हाथ से श्रम किया और एक संदेश दिया।

Posted By: Nai Dunia News Network

NaiDunia Local
NaiDunia Local
  • Font Size
  • Close