मंदसौर। भाजपा की जन अदालत के समापन के बाद मंच के बाहर शिवराजसिंह चौहान के सामने ही विधायक यशपालसिंह सिसोदिया और जिला पंचायत सदस्य अंशुल बैरागी के बीच जमकर बहस हो गई। दोनों भाजपा नेताओं में जमकर विवाद हुआ। दरअसल बैरागी कुछ महिलाओं को लेकर पूर्व मुख्यमंत्री शिवराजसिंह चौहान से मिलने गए थे। तब मंदसौर विधायक यशपालसिंह सिसोदिया से उनकी तीखी बहस हो गई।

बाढ़ पीड़ितों को तत्काल सहायता नहीं मिलने पर अक्टूबर में करेंगे आंदोलन

मंदसौर में पूर्व मुख्यमंत्री शिवराजसिंह चौहान का 24 घंटे का धरना रविवार सुबह 11 बजे समाप्त हो गया। उन्होंने कहा कि अगर हमारी मांगे पूरी नहीं हुई तो अक्टूबर में पूरे प्रदेश में सड़क पर आंदोलन करेंगे। साथ ही ऐलान किया कि पूरे मध्यप्रदेश में बिजली बिलो को जमा नहीं करेंगे। इसके लिए संघर्ष समिति का होगा गठन। मंदसोर से इसकी शुरुआत करेंगे। साथ ही स्वसहायता समूह लोन को भी माफ करने हेतु संघर्ष होगा। समूह लोन से परेशानी को लेकर कई महिलाओं ने जन अदालत में शिकायत की थी। भाजपा की जन अदालत के समापन पर सभी शिकायतों का एक ज्ञापन मुख्यमंत्री के नाम जिला कलेक्टर को सौपा गया है।

ज्ञापन का वाचन सासंद सुधीर गुप्ता ने किया। इसके बाद शिवराज सिंह चौहान सहित सभी भाजपा नेताओं ने बिजली बिलों की सड़क पर होली जलाई। भाजपा ने अपने ज्ञापन में स्कूलों में आयोजित होने वाली अर्धवार्षिक परिक्षा भी फिलहाल स्थगित कर देरी से आयोजित करने की मांग की। गौरतलब है कि बारिश के चलते घरों में नुकसान से पुस्तकें भीगने से बच्चों की पढ़ाई प्रभावित हुई है।

Posted By: Prashant Pandey