शामगढ़ (नईदुनिया न्यूज)। दो साल से बंद कोटा-रतलाम मेला यात्री गाड़ी को प्रारंभ करने की मांग यात्रियों ने की है। मेला गाड़ी कोटा से रतलाम तक सभी छोटे बड़े स्टेशन पर रुकती थी, इसके कारण इस गाड़ी को ग्रामीणों की लाइफ लाइन मानी जाती है। इसके अलावा प्रतिदिन आवागमन करने वाले नौकरीपेशा, व्यापारियों व मजदूरों के लिए बहुत ही सुलभ ट्रेन मानी जाती है, लेकिन ना तो इस ओर रेलवे प्रशासन ध्यान दे रहा है ना ही जनप्रतिनिधिगण।

बताया जाता है कि कोटा एवं रतलाम रेल मंडल में आपसी सामंजस्य के अभाव के चलते मेला गाड़ी रतलाम तक नहीं जा रहीं है। जिसके कारण यात्रियों को परेशानियों का सामना करना पड़ रहा है। मेला सवारी गाड़ी कोटा से रतलाम जाने के लिए सुबह छह बजे बांद्रा हरिद्वार देहरादून एक्सप्रेस के बाद 10.40 बजे कोटा वड़ोदरा पार्सल चलती है। वहीं रतलाम से प्रतिदिन दोपहर दो बजे के बाद अगले दिन सुबह सात बजे तक कोटा के लिए कोई पैसेंजर ट्रेन नहीं है। हाल ही में रेल विकास संघ के प्रमुख पंकज सोनी ने पश्चिम मध्य रेलवे महाप्रबंधक सुधीर गुप्ता से जबलपुर मुलाकात कर मेला गाड़ी को रतलाम तक चलाने की मांग की। पश्चिम मध्य रेलवे की सांसदों के साथ बैठक में भी जनप्रतिनिधियों ने इस ट्रेन को रतलाम तक चलाने की मांग की थी। रेल विकास संघ के श्री सोनी ने इस संबंध में प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी, रेल मंत्री एवं रेलवे बोर्ड को पत्र लिखकर मेला गाड़ी के बंद होने के कारणों को बताते हुए इस अविलंब प्रारंभ करने की मांग की है। यही मांग नगर से रेलवे परामर्शदात्री समिति के नारायणभाई गुजराती व नरेन्द्रकुमार यादव ने रेल मंत्री अश्विनी वैष्णव व जीएम गुप्ता से की है।

Posted By: Nai Dunia News Network

NaiDunia Local
NaiDunia Local
  • Font Size
  • Close