इंडोरामा-पीथमपुर। नगरपालिका क्षेत्र से प्रतिदिन एकत्र किए जाने वाले कचरे से ट्रेंचिंग ग्राउंड में न केवल जैविक खाद बनाई जा रही है, बल्कि यही खाद किसानों को बेची भी जा रही है। इससे उनका उत्पादन बढ़ गया है। पीथमपुर नगरपालिका द्वारा पीथमपुर व सागौर में लगे कचरे के पहाड़ बन चुके ट्रेंचिंग ग्राउंड पर इस तरह काम किया गया कि कचरे का नामोनिशान खत्म कर वहां बगीचा बना दिया गया। वहीं सागौर स्थित एफएसटी प्लांट में नगर के सेप्टिक टैंक की गंदगी से खाद बनाई जा रही है और वहां से निकले फिल्टर पानी से बगीचों को सींचा जा रहा है। इसे देखने के लिए मंगलवार को जम्मू कश्मीर से लगभग आधा दर्जन निकायों के जनप्रतिनिधि व अधिकारियों का 20 सदस्यीय दल आया। दल ने कचरा प्लांट का निरीक्षण किया और गीले कचरे से खाद बनने की प्रक्रिया समझी। स्वच्छता अधिकारी बीएस मेहते, स्वच्छता निरीक्षक रूपेश सूर्या तथा डिवाइन टीम लीडर अरुण तोमर ने दल को पूरी प्रक्रिया समझाई।

पेयजल संकट से परेशान रहवासी

पीथमपुर। वार्ड क्र. सात के रहवासी जलसंकट से परेशान हैं। बार-बार पाइप लाइन फूटने से रहवासियों को कई-कई दिनों तक पेयजल नहीं मिलता। इसके बाद उन्हें हैंडपंप या टयूबवेल से पानी लाना पड़ता है। सेन गली में पिछले सवा महीने से पाइप लाइन फूट जाने से रहवासियों को पेयजल संकट से जूझना पड़ रहा है। शिकायत के बाद भी समस्या दूर नहीं हुई। रहवासियों ने वार्ड पार्षद विपुल पटेल को नल नहीं आने की समस्या बताई तो उन्होंने सीएमओ गजेंद्र सिंह बघेल को समस्या से अवगत कराया। इसके बाद जल प्रभारी नितिन वर्मा को समस्या दूर करने को कहा गया लेकिन 15 दिन बाद भी समस्या जस की तस बनी हुई है। मंगलवार को पार्षद पटेल ने फिर समस्या के बारे में नितिन वर्मा को बताया।

Posted By:

fantasy cricket
fantasy cricket