चार किमी की सड़क

लागत 3.20 करोड़ रुपए

आंबाचंदन, सिमरोल, मेमदी, दतौदा सहित छह गांवों को जोड़ती है

दतौदा-महू। क्षेत्र में सड़कों की हालत खराब है। करीब दो साल पहले बनी दतौदा गांव को आंबाचंदन और रावली से जोड़ने वाली सड़क उखड़ गई है। सड़क पर गड्ढों की भरमार है। इन गड्ढों का शिकार राहगीर होते हैं, लेकिन इसके बावजूद सड़क की हालत सुधारने में लोक निर्माण विभाग की कोई दिलचस्पी नहीं है। ऐसे में अब ग्रामीण परेशान हैं। उनके मुताबिक वे पहले भी सड़क में लगाई गई घटिया सामग्री की जानकारी विभाग को दे चुके हैं, लेकिन विभाग ने इस पर ध्यान नहीं दिया और अब सड़क खुद ही इस अनियमितता की गवाही दे रही है।

शिकायत होने पर सड़क पर बने गड्ढों को तो भरा गया, लेकिन यह भी लापरवाही से। सिमरोल-महू रोड के अलावा अब आंबाचंदन और दतौदा के बीच की सड़क भी उखड़ गई है। चार किमी लंबी इस सड़क का निर्माण दो वर्ष पहले हुआ था जिसमें करीब सवा तीन करोड़ रुपए की लागत आई थी। इसके पीछे उद्देश्य था कि इससे कई गांवों के लोगों को पक्का और अच्छा रास्ता मिलेगा, लेकिन सड़क पहली बारिश के बाद ही दम तोड़ने लगी थी और इसमें गड्ढे होना शुरू हो गए थे, लेकिन इस पर किसी ने ध्यान नहीं दिया। यह सड़क लोक निर्माण विभाग के दो क्षेत्रीय कार्यालयों को जोड़ती है। इनमें एक महू और दूसरा जोन वन। विभागों के तर्क हैं कि वे अपना काम कर चुके हैं, लेकिन ऐसा जमीन पर नजर नहीं आ रहा है। अब सड़क पर फिर गड्ढे हो चुके हैं और इस बार जब ग्रामीणों ने शिकायत की तो दतौदा के पास रविवार को ही गड्ढे भरने की रस्म अदा कर दी गई, लेकिन इनमें भराव लापरवाही से किया गया। हालांकि अभी सड़क पर कई और गड्ढे बचे हुए हैं। संभव है जिन पर आने वाले दिनों में इसी तरह भराव कर दिया जाए।

-हमने अपने हिस्से के गड्ढे भर दिए हैं। बाकी हमारी

जिम्मेदारी नहीं है। दूसरे जोन के अधिकारी देखेंगे। हम उनसे भी बात

करेंगे। -एचएस जादौन, एसडीओ, लोक निर्माण विभाग महू

Posted By: Nai Dunia News Network

fantasy cricket
fantasy cricket