महू (नईदुनिया न्यूज)। शासकीय आंबेडकर अस्पताल में बने कोविड अस्पताल से शुक्रवार को आखिरी कोरोना संक्रमित रोगी भी स्वस्थ होकर अपने घर लौट गई। उसे विदा करने के लिए पूरा स्टाफ मौजूद था। उसके साथ सेल्फी लेकर सभी ने पल को यादगार बनाया।

बीते 67 दिनों से शासकीय आंबेडकर अस्पताल के जिस कोविड अस्पताल में उपचार करवाने वालों व उनके स्वजन की भीड़ उमड़ रही थी। कोरोना संक्रमण के दूसरे चरण में शुरू किए शासकीय अस्पताल का कोविड सेंटर शुक्रवार को पूरी तरह रोगी मुक्त हो गया। यहां नौ दिनों से भर्ती कोदरिया निवासी 22 साल की सोनाली बेंजामिन दो जून को संक्रमित होने के बाद भर्ती हुई थी। विगत पांच दिन से वह इस पूरे अस्पताल में अकेली रोगी थी। उन्हें स्वस्थ करने के लिए पूरा स्टाफ व चिकित्सक मेहनत कर रहे थे। इसी का नतीजा था कि शुक्रवार को वे स्वस्थ होकर अपने घर गई। यहां पर एसडीएम अभिलाष मिश्रा, डा.अशोक मेवाड़ा, डा.विवेक दुबे, डा.हंसराज वर्मा, नायब तहसीलदार रितेश जोशी, डा.फैजल अली, डा.संदीप मोहंती, पाथ फाउंडेशन के विनय कटारा, हेमंत कांबले सहित स्टाफ नर्स, कर्मचारी आदि मौजूद थे। सोनाली के पिता अजय बेंजामिन ने इस मौके पर सभी अधिकारियों, स्टाफ व पाथ फाउंडेशन के प्रति आभार माना।

दो जगह से मिली निराशा

सोनाली के साथ उनके पिता अजय भी संक्रमण का शिकार हो गए थे। दोनों को इंदौर के राधास्वामी सेंटर भेजा गया। वहां कुछ दिन रखा गया लेकिन स्वास्थ में सुधार नहीं होने पर सोनाली को इंदौर के एक निजी अस्पताल में चार दिन भर्ती रखा गया। वहां न तो देखरेख हुई, न ही अच्छा उपचार किया गया। आर्थिक रूप से कमजोर होने के कारण और लगातार स्वास्थ्य बिगड़ने के कारण सोनाली को महू के शासकीय कोविड अस्पताल में दो जून को भर्ती किया गया। अजय के मुताबिक यहां के चिकित्सकों व स्टाफ के सहयोग व सेवा से अब वह स्वस्थ हो गई हैं।

इलाज में कोई कसर नहीं छोड़ी

सोनाली अस्पताल के कोविड वार्ड में पांच दिनों से इकलौती रोगी थी, लेकिन उनके इलाज में यहां कोई कोर-कसर नहीं छोड़ी गई। उनके लिए यहां 16 नर्सें, चार चिकित्सक व अन्य स्टाफ दिन रात लगा रहा। यहां तक की एसडीएम मिश्रा भी लगातार उनकी जानकारी लेते रहे। मिश्रा ने सभी को स्पष्ट कहा था कि चाहे वह अकेली रोगी हो लेकिन जब तक वह स्वस्थ नहीं होंगी, उनका उपचार जारी रहेगा। वहीं पाथ फाउंडेशन के नितिन अग्रवाल ने भी अपने स्टाफ को सोनाली के घर जाने तक वहीं रहकर सेवा करने व किसी प्रकार की कमी नहीं होने देने का आदेश भी दिया था। इस दौरान अस्पताल के बाहर लगी स्क्रीन तक को बंद नहीं किया गया।

Posted By: Nai Dunia News Network

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

NaiDunia Local
NaiDunia Local
 
Show More Tags